अपने दिल की भी आवाज सुनें, इससे पहले की बहुत देर हो जाए !

 
अपने दिल की भी आवाज सुनें, इससे पहले की बहुत देर हो जाए !

हर साल 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस के रूप में मनाया जाता है। दिल शरीर के सबसे मजबूत अंगों में से एक है, फिर भी यह विफलता और बीमार कार्य के लिए अतिसंवेदनशील है। हृदय रोगों को मृत्यु का नंबर एक कारण बताया जाता है। अनुमान बताते हैं कि हर 33 सेकंड में हृदय की गिरफ्तारी के कारण दिल धड़कना बंद कर देता है। तंबाकू का उपयोग और सक्रिय और निष्क्रिय धूम्रपान सालाना आधार पर 6 मिलियन लोगों को मारता है। क्या बुरा है, इस आबादी के 28% बच्चे हैं।

भारत में स्थिति डगमगा रही है। युवा पीढ़ी में हृदय कोरोनरी धमनी की बीमारी लगातार बढ़ रही है। पश्चिमी देशों की तुलना में हमें दिल का दौरा पड़ने के 10 साल बाद तेजी से आगे बढ़ा है। कार्यस्थलों पर कड़ी प्रतिस्पर्धा, गतिहीन जीवन शैली और व्यक्तिगत स्वास्थ्य की उपेक्षा जैसे कारकों ने राष्ट्र के युवाओं पर एक करारा प्रहार किया है। निजी स्वास्थ्य के लिए बिना किसी चिंता के सुबह से लेकर रात तक काम के घंटे बढ़ गए हैं। तनाव और दिल की समस्याओं के लिए चिंता का भी बड़ा योगदान है। युवा पीढ़ी इन बाधाओं के बीच पीस रही है और अपनी भावना और शक्ति खो रही है। इस दबाव वाले वातावरण में महिलाएं दिल की बीमारियों से लड़ने के लिए एक महत्वपूर्ण हार्मोन एस्ट्रोजन खो देती हैं।

जब यह पारिवारिक इतिहास और मधुमेह के मामलों की बात आती है, तो कुछ भी नहीं किया जा सकता है। लेकिन धूम्रपान, अत्यधिक तनाव, निष्क्रियता, प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ खाने और कम से कम शारीरिक गतिविधि जैसे हमारे नियंत्रण में होने वाले कारकों को ध्यान से देखा जाना चाहिए। डॉ। निसारगा [एमएस, एमसीएच (सीटीवीएस) सलाहकार, कंसल्टेंट कार्डियोवास्कुलर सर्जन, केआईएमएस अस्पताल, कोंडापुर] के अनुसार, पैदल चलना एक उत्कृष्ट व्यायाम है। एक व्यक्ति न चलने के लिए एक हजार बहाने बना सकता है लेकिन चलने का एक मजबूत कारण होना चाहिए और वह है चलने की इच्छा।

फोर्टिस मलार अस्पताल के कंसल्टेंट कार्डियोथोरेसिक सर्जरी डॉ। डी सेंथिल कुमार के अनुसार, गतिहीन जीवन शैली युवाओं में रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि का एक प्रमुख कारण बन गई है। उच्च वसायुक्त भोजन को भी रक्त वाहिकाओं में वसा के जमाव के रूप में दोषी ठहराया जाता है, जिससे रुकावट होती है और अंततः कार्डियक अरेस्ट होता है। यहां शारीरिक गतिविधि बचाव के लिए आती है क्योंकि जोरदार व्यायाम शरीर को संचित वसा को पसीना और फैलाने का कारण बनता है। एक घंटे के लिए तैराकी को शरीर के प्रत्येक भाग को आराम देने के लिए सबसे अच्छा व्यायाम कहा जाता है। डॉ। कुमार का दृढ़ विश्वास है कि आप जो संचय करते हैं, उसे किसी न किसी रूप में करने देना चाहिए।

डॉ. निसर्गा ने जोर दिया कि हृदय एक महत्वपूर्ण अंग है और यदि यह रुक जाता है, तो शरीर की पूरी मशीनरी बंद हो जाती है। इसलिए इस मुट्ठी के आकार वाले अंग का अच्छे से ध्यान रखना बेहद जरूरी है। जीवनशैली में छोटे-छोटे बदलाव लाने से हृदय रोगों का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। याद रखें, दिल का स्वास्थ्य सभी स्वास्थ्य का दिल है।

From around the web