इन राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती, बुरे प्रभाव से बचने के ये हैं उपाय

 
इन राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती, बुरे प्रभाव से बचने के ये हैं उपाय

शनि न्याय का देवता है और जब वह प्रसन्न होता है तो राजा को राजा बनाता है और जब वह क्रोधित होता है तो राजा का स्थान बनाता है। यही कारण है कि शनिदेव को प्रसन्न रखने का हर संभव प्रयास किया जाता है। शनि 5 राशियों पर एक साथ नजर रखता है, जिसमें से शनि दो राशियों पर ढैय्या और तीसरी राशि पर शनि सती है। 29 अप्रैल से राशि में बदलाव किया गया है। इस दौरान शनि मकर राशि से कुम्भ राशि में गोचर करेगा।

30 साल बाद बदलें

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मिथुन और तुला राशि के जातक शनि कुम्भ में प्रवेश करते ही शनि ढैया से मुक्त हो जाएंगे। शनिदेव 30 साल बाद अपनी ही राशि कुंभ में प्रवेश कर रहे हैं। मकर और कुंभ राशि शनि की एक ही राशि है। शनि ढैया से मुक्ति मिलने के बाद मिथुन और तुला राशि के लोगों के लिए नए रास्ते खुलेंगे। इससे आपको पुरानी बीमारियों से निजात मिलेगी।

धैर्य की शुरुआत कर्क और वृश्चिक राशि से होती है

 ज्योतिष के अनुसार आपके शनि चरण के कारण रुके हुए काम पूरे होने लगेंगे। मानसिक परेशानी खत्म होगी। शनि का गोचर होते ही कर्क और वृश्चिक राशि के जातकों पर शनि का प्रभाव देखने को मिलेगा। वृश्चिक राशि के जातकों के लिए शनि राशि परिवर्तन शुभ नहीं माना जाता है।

इन राशियों पर चल रही है शनि साढ़े साती, बुरे प्रभाव से बचने के ये हैं उपाय

यह है शनिदेव की घैय्या का प्रभाव

धन और स्वास्थ्य के मामलों में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए।
प्रेम संबंधों में रुकावटें आ सकती हैं।
अहंकार और क्रोध पर नियंत्रण रखना चाहिए।
नौकरी में रुकावट आ सकती है।

12 जुलाई को फिर से बदलाव किए जाएंगे

12 जुलाई 2022 को शनि अस्थायी रूप से मकर राशि में फिर से प्रवेश करेगा, जो फिर से मिथुन, तुला और धनु राशि में शनि को प्रभावित करेगा। 17 जुलाई 2023 तक शनि यहां रहेगा। ऐसे में मिथुन, तुला और धनु राशि से शनि का चरण वर्ष 2023 में समाप्त हो जाएगा।

ये कुछ लक्ष्य निर्धारण शेयरवेयर हैं जिनका आप उपयोग कर सकते हैं

एक प्याले में तेल लें और उसमें अपना चेहरा देखें। फिर किसी जरूरतमंद को तेल दान करें। इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

हनुमानजी के मंदिर में सिंदूर, चमेली का तेल, लड्डू और नारियल चढ़ाएं।

 सुबह नहाने के बाद पाइप को पानी दें। एक साथ सात फेरे करें।

शनिवार के दिन काली बीन्स या सात अनाज का दान करना चाहिए।

शनिदेव की पूजा करें और उन्हें नीले फूल चढ़ाएं। इसके साथ रुद्राक्ष के घोंसले में शनि मंत्र Om शनिश्चराय नमः का जाप करें।

Post a Comment

From around the web