गुरु गोबिंद सिंह की इन बातों का करें अनुसरण, जीवन हो जाएगा धन्य

 
guru gobind singh jayanti 2022 date significance thoughts and teachings of guru gobnd singh 

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: देशभर में हर साल सिख समुदाय के लोग गुरु गोबिंद सिंह जी की जयंती को बड़े ही धूमधाम के साथ मनाते हैं गुरु गोबिंद सिंह सिखों के दसवें और आखिरी गुरु थे। उन्होंने ही खालसा पंथ की स्थापना की थी और जीवन जीने के लिए पांच सिद्धांत दिए थे जिन्हें पांच ककार के नाम से जाना जाता हैं गुरु जी ने अपना पूरा जीवन लोगों के कल्याण के लिए समर्पित कर दिया था इसलिए सिख समुदाय के बीच उनकी जयंती को प्रकाश पर्व क तौर पर मनाया जाता हैं तो आज हम आपको इसके बारे में बता रहे हैं तो आइए जानते हैं। 

कई लोग इस दिन को गुरु गोबिंद सिंह का प्रकाश पर्व भी कहते हैं इस दिन देशभर में गुरुद्वारों को सजाया जाता है लोग अरदास, भजन, कीर्तन के साथ गुरुद्वारे में लोग मत्था टेकने जाते हैं नानक वाणी पढ़ी जाती हैं और दान पुण्य आदि लोक कल्याण के तमाम कार्य किए जाते हैं इस बार गुरु गोबिंद सिंह जयंती 9 जनवरी 2022 को रविवार के दिन मनाई जाएगी।

जानिए गुरु गोबिंद सिंह के अनमोल विचार—
जब आप अपने अन्दर से अहंकार मिटा देंगे, तभी आपको वास्तविक शांति प्राप्त होगी। इसका मतलब है कि व्यक्ति जीवनभर शांति को तलाशता है मगर शांति उसी के अंदर होती हैं बस उसे पाने के लिए अपने झूठे अहंकार को मिटाना पड़ता हैं। 
 
किसी भी परदेसी, दुखी इंसान, विकलांग या जरूरतमंद की सहायता जरूर करें। इससे मानसिक शांति और खुशी मिलेगी। गुरु जी का मानना था कि नेक काम करने से व्यक्ति का अहंकार मिटता है और उसे आंतरिक सुख और शांति प्राप्त होती हैं इसलिए जरूरतमंदों की मदद जरूर करें। दुश्मन से भिड़ने से पहले साम, दाम, दंड और भेद का सहारा लें और बाद में ही युद्ध में पड़ें। सही रणनीति का इस्तेमाल कर युद्ध में जीत हासिल की जा सकती हैं गुरु जी कुशल योद्धा थे, उन्होंने कहा है कि दुश्मन से जब युद्ध की नौबत आ जाए तो व्यक्ति को सही रणनीति बनाकर युद्ध करना चाहिए तभी वो विजयी हो सकता हैं। 


 

Post a Comment

From around the web