आज करें लक्ष्मी चालीसा का पाठ, सुख-सौभाग्य में होगी वृद्धि

 
Rad laxmi chalisa path for every friday

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: हिंदू धर्म में सप्ताह के सातों दिनों को किसी न किसी देवी देवता की पूजा के लिए विशेष माना गया हैं वही शुक्रवार का दिन धन वैभव की देवी माता लक्ष्मी की पूजा को समर्पित हैं इस दिन लोग विशेष रूप से मां वैभव लक्ष्मी का व्रत और पूजन करते हैं और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं ऐसा कहा जाता हैं कि आज के दिन जो भक्त पूरे विधि विधान और सच्ची निष्ठा के साथ माता लक्ष्मी की पूजा आराधना कर व्रत रखता हैं उसके जीवन की समस्याएं दूर हे जाती हैं वही आज के दिन माता लक्ष्मी की मूर्ति या प्रतिमा के आगे घी का दीपक जला कर लक्ष्मी चालीसा कापाठ करने से घर में धन धान्य और सौभाग्य का आगमन होता हैं तो आज हम आपके लिए लेकर आए हैं संपूर्ण श्री लक्ष्मी चालीसा पाठ, तो आइए जानते हैं। 

श्री लक्ष्मी चालीसा—   

दोहा


मातु लक्ष्मी करि कृपा करो हृदय में वास।


मनोकामना सिद्ध कर पुरवहु मेरी आस॥


सिंधु सुता विष्णुप्रिये नत शिर बारंबार।


ऋद्धि सिद्धि मंगलप्रदे नत शिर बारंबार॥ टेक॥


सोरठा


यही मोर अरदास, हाथ जोड़ विनती करूं।


सब विधि करौ सुवास, जय जननि जगदंबिका॥


॥ चौपाई ॥


सिन्धु सुता मैं सुमिरौं तोही। ज्ञान बुद्धि विद्या दो मोहि॥


तुम समान नहिं कोई उपकारी। सब विधि पुरबहु आस हमारी॥


जै जै जगत जननि जगदम्बा। सबके तुमही हो स्वलम्बा॥


तुम ही हो घट घट के वासी। विनती यही हमारी खासी॥


जग जननी जय सिन्धु कुमारी। दीनन की तुम हो हितकारी॥


विनवौं नित्य तुमहिं महारानी। कृपा करौ जग जननि भवानी।


केहि विधि स्तुति करौं तिहारी। सुधि लीजै अपराध बिसारी॥


कृपा दृष्टि चितवो मम ओरी। जगत जननि विनती सुन मोरी॥


ज्ञान बुद्धि जय सुख की दाता। संकट हरो हमारी माता॥


क्षीर सिंधु जब विष्णु मथायो। चौदह रत्न सिंधु में पायो॥


चौदह रत्न में तुम सुखरासी। सेवा कियो प्रभुहिं बनि दासी॥


जब जब जन्म जहां प्रभु लीन्हा। रूप बदल तहं सेवा कीन्हा॥


स्वयं विष्णु जब नर तनु धारा। लीन्हेउ अवधपुरी अवतारा॥


तब तुम प्रकट जनकपुर माहीं। सेवा कियो हृदय पुलकाहीं॥


अपनायो तोहि अन्तर्यामी। विश्व विदित त्रिभुवन की स्वामी॥


तुम सब प्रबल शक्ति नहिं आनी। कहं तक महिमा कहौं बखानी॥


मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन- इच्छित वांछित फल पाई॥


तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मन लाई॥


और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करे मन लाई॥


ताको कोई कष्ट न होई। मन इच्छित फल पावै फल सोई॥


त्राहि- त्राहि जय दुःख निवारिणी। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणि॥


जो यह चालीसा पढ़े और पढ़ावे। इसे ध्यान लगाकर सुने सुनावै॥


ताको कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै।


मन क्रम वचन करै सेवकाई। मन- इच्छित वांछित फल पाई॥


तजि छल कपट और चतुराई। पूजहिं विविध भांति मन लाई॥


और हाल मैं कहौं बुझाई। जो यह पाठ करे मन लाई॥


ताको कोई कष्ट न होई। मन इच्छित फल पावै फल सोई॥


त्राहि- त्राहि जय दुःख निवारिणी। त्रिविध ताप भव बंधन हारिणि॥


जो यह चालीसा पढ़े और पढ़ावे। इसे ध्यान लगाकर सुने सुनावै॥


ताको कोई न रोग सतावै। पुत्र आदि धन सम्पत्ति पावै।


करि विश्वास करैं व्रत नेमा। होय सिद्ध उपजै उर प्रेमा॥


जय जय जय लक्ष्मी महारानी। सब में व्यापित जो गुण खानी॥


तुम्हरो तेज प्रबल जग माहीं। तुम सम कोउ दयाल कहूं नाहीं॥


मोहि अनाथ की सुधि अब लीजै। संकट काटि भक्ति मोहि दीजे॥


भूल चूक करी क्षमा हमारी। दर्शन दीजै दशा निहारी॥


बिन दरशन व्याकुल अधिकारी। तुमहिं अक्षत दुःख सहते भारी॥


नहिं मोहिं ज्ञान बुद्धि है तन में। सब जानत हो अपने मन में॥


रूप चतुर्भुज करके धारण। कष्ट मोर अब करहु निवारण॥


कहि प्रकार मैं करौं बड़ाई। ज्ञान बुद्धि मोहिं नहिं अधिकाई॥


रामदास अब कहाई पुकारी। करो दूर तुम विपति हमारी॥


दोहा


त्राहि त्राहि दुःख हारिणी हरो बेगि सब त्रास।


जयति जयति जय लक्ष्मी करो शत्रुन का नाश॥


रामदास धरि ध्यान नित विनय करत कर जोर।


मातु लक्ष्मी दास पर करहु दया की कोर॥

Post a Comment

From around the web