सभी कष्टों को दूर करता हैं संकटनाशन गणेश स्तोत्र, आज करें इसका पाठ

 
read sankatnashan ganesh stotra for every Wednesday

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार बुधवार का दिन श्री गणेश भगवान को समर्पित हैं इस दिन गणेश जी की पूजा का विधान हैं मान्यता है कि श्री गणेश को शुभ फलदाता माना गया हैं हर बुधवार को गणेश जी का श्रद्धा से पूजन करने से घर की नकारात्मकता दूर होती हैं और शुभता आती हैं इसके अलावा कुंडली में बुध की स्थिति मजबूत हो जाती हैं श्री गणेश की कृपा जिस पर होती हैं उसके सभी संकटों का नाश हो जाता हैं और बिगड़े काम भी बनने लगते हैं। अगर आप भी श्री गणेश की कृपा के पात्र बनना चाहते हैं तो नियमित रूप से संकटनाशन गणेश स्तोत्र का पाठ करें ये पाठ भगवान श्री गणेश को अति प्रिय हैं इसे करने से सभी दुखों का अंत हो जाता हैं और बिगड़े काम भी बनने लगते हैं अगर रोजाना नहीं कर सकते हैं तो बुधवार के दिन इसे 11 बार पढ़ें इसका पाठ करने से पहले श्री गणेश को सिंदूर, घी का दीपक, अक्षत, पुष्प, दूर्वा और नैवेद्य अर्पित करें फिर मन में उनका ध्यान करने के बाद इस पाठ को पढ़ें। 

संकटनाशन गणेश स्तोत्र—

प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम्
भक्तावासं स्मरेनित्यम आयुष्कामार्थ सिध्दये

प्रथमं वक्रतुण्डं च एकदन्तं द्वितीयकम्
तृतीयं कृष्णपिङगाक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम

लम्बोदरं पञ्चमं च षष्ठं विकटमेव च
सप्तमं विघ्नराजेन्द्रं धुम्रवर्णं तथाषष्टम

नवमं भालचंद्रं च दशमं तु विनायकम्
एकादशं गणपतिं द्वादशं तु गजाननम

द्वादशेतानि नामानि त्रिसंध्यं य: पठेन्नर:
न च विघ्नभयं तस्य सर्वसिध्दीकर प्रभो

विद्यार्थी लभते विद्यां धनार्थी लभते धनम्
पुत्रार्थी लभते पुत्रान्मोक्षार्थी लभते गतिम

जपेद्गणपतिस्तोत्रं षडभिर्मासे फलं लभेत्
संवत्सरेण सिध्दीं च लभते नात्र संशय:

अष्टभ्यो ब्राह्मणेभ्यश्च लिखित्वा य: समर्पयेत
तस्य विद्या भवेत्सर्वा गणेशस्य प्रसादत:

संकटनाशन गणेश स्तोत्र का पाठ करने के बाद आप श्री गणेश की आरती करके उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। अगर आप अपनी किसी खास मनोकामना की पूर्ति चाहते हैं तो इसे 11 या 21 बुधवार तक करें। 

Post a Comment

From around the web