इस मंदिर के खज़ाने को सरकार छू भी नहीं सकती, जानिए वजह

 
mysterious facts about kamrunag lake in himachal where unknown treasure is stored

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: हिंदू धर्म में पूजा पाठ के साथ तीर्थ स्थल और मंदिरों को भी विशेष महत्व दिया जाता हैं तो आज हम आपको अपने इस लेख द्वारा भारत में स्थित एक ऐसे मंदिर के खजाने के बारे में बता रहे जिस पर न तो आज तक सरकार अपना ह़क जता पाई है और न ही उस मंदिर के ख़जाने को कोई चुरा पाया हैं तो आइए जानते हैं इस मंदिर के बारे में विस्तार से। 

आज हम बात कर रहे हैं एक ऐसे खजाने के बारे में जिसे सरकार छू भी नहीं पाई हैं उस मंदिर का नाम हैं कमरूनाग मंदिर। जहां पर दफन खजाना आप भी पअनी आंखों से देख सकते हैं यह मंदिर स्थि​त है हिमाचल प्रदेश के मंडी से करीब 68 किलोमीटर दूर रोहांडा में किसी मंदिर के पास स्थित हैं कमरूनाग झील जिसमें दफन है हजारों साल से जमा खरबों का खजाना। मान्यता के अनुसार इस मंदिर से आप जो भी कामना करते हैं आपकी मनोकामना पूरी हो जाती हैं और बदले में आपको कोई आभूषण इस झील में अर्पित करना होता हैं और ऐसा हजारों साल पहले से ही होता आ रहा हैं इसलिए यहां पर अरबों खरबों का खजाना झील में पहुंच चुका हैं। 

प्राचीन मान्यता के अनुसार इस मंदिर का इतिहास महाभारत से जुड़ा हुआ हैं महाभारत के सबसे महान योद्धा बर्बरीक जब युद्ध में लड़ने के लिए आए तो भगवान श्रीकृष्ण जान चुके थे कि वह केवल कमजोर पक्ष की ओर से ही लड़ेंगे। और अगर वह कौरवों की ओर से लड़े तो युद्ध का नतीजा बदल सकता था। इसलिए श्रीकृष्ण ने बर्बरीक से उनका सर भेंट स्वरूप मांगा, इस पर बर्बरीक ने भी कहा कि वह महाभारत का पूरा युद्ध देखना चाहते हैं और अपना सर काट कर भगवान कृष्ण को दे दिया। बर्बरीक का सर सबसे ऊंची पहाड़ी पर रखा गया और यही वह जगह है जहां पर यह मंदिर स्थित हैं युद्ध के बाद इस झील का निर्माण भीम द्वारा किया गया और तब से ही यहां पर आभूषण अर्पित किए जाते हैं अगर आप यहां जाएंगे तो आपको झील की गहराई में सोने चांदी के आभूषण नजर आ ही जाएंगे। आपको इसके ऊपर तैरती भारतीय रूपये भी नजर आएंगे। 

Post a Comment

From around the web