क्या आप जानते है इन तीन योगासनों को करने से नहीं फटकती है बीमारीयां आपके पास

 
क्या आप जानते है इन तीन योगासनों को करने से नहीं फटकती है बीमारीयां आपके पास

आजकल के बदलते लाइफस्टाइल में बीमारीयों से बचने के लिए योग करना बहुत जरूरी है। योग करने से शरीर की हर बीमारी में आराम मिलता हैं। यहां तक कि अगर महिलाओं में प्रजनन क्षमता में कमी हैं, तो उसे भी योगासन की मदद से दूर किया जा सकता हैं। कई बार आनुवांशिक तो कभी मोटापे या गलत जीवनशैली के कारण महिलाओं में इस तरह की परेशानी देखने को मिलती हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए अगर नियम से ये तीन योग के आसन किए जाएं तो निश्चित ही फायद पहुंचता हैं। तो चलिए जानें योगासन को करने का तरीका।

जानुशिरासन
दण्डासन में बैठकर दाएं पैर को मोड़कर पंजे को बाएं जंघा के मूल में लगाएं और एड़ी को सटाकर रखें। दोनों हाथों से बाएं पैर के पंजे को पकड़कर सांस बाहर निकालकर सिर को घुटने से लगाएं। थोड़ी देर रुकने के पश्चात् सांस लेते हुए ऊपर उठ जाएं और दूसरे पैर से भी इसी प्रकार दोहराएं

चक्रासन

चक्रासन
पीठ के बल लेटकर घुटनों को मोड़ें। एड़ियां नितंबों के समीप लगी हुई हों। दोनों हाथों को उल्टा करके कंधों के पीछे थोड़े अंतर पर रखें। इससे संतुलन बना रहता है। सांस अंदर भरकर कमर एवं छाती को ऊपर उठाएं। धीरे-धीरे हाथ एवं पैरों को समीप लाने का प्रयत्न करें, जिससे शरीर की चक्र जैसी आकृति बन जाए। आसन छोड़ते समय शरीर को ढीला करते हुए कमर जमीन पर टिका दें. यह क्रिया 3-4 बार करें।

सुप्त वज्रासन
वज्रासन में बैठकर हाथों को पीछे की तरफ रखकर उनकी सहायता से शरीर को पीछे झुकाते हुए जमीन पर सिर को टिका दें। घुटने मिले हुए तथा जमीन पर टिके हुए हों। धीरे-धीरे कंधे, गले और पीठ को भी जमीन पर टिकाने की कोशिश करें। हाथों को जंघाओं पर सीधा रखें।आसन को छोड़ते समय कोहनियों और हाथों का सहारा लेते हुए वज्रासन में बैठ जाएं।

Post a Comment

From around the web