60 की उम्र में भी रहना है ना फिट? तो हम बता रहे हैं इसके खास टिप्स

 
s

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।।  हम सभी लोग हेल्दी और फिट रहने के लिए बहुत सारी चीजें करते हैं. लेकिन कई बार अपनी लाइफस्टाइल को नजरअंदाज कर देते हैं. जिसका असर हमारे सेहत पर पड़ता है. आप हेल्दी और फिट रहने के लिए अपने दिन की शुरुआथ हेल्दी हेबिट्स के साथ करें. इससे आप शरीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहेंगे. ज्यादातर लोग रिटायरमेंट के बाद फिजिकल एक्टिविटी नहीं करते हैं. इसका असर उनकी सेहत पर पड़ता है जिसका खामियाजा उन्हें कुछ समय बाद देखने को मिलता है.

दरअसल 60 साल के बाद शरीर में बाहरी ही नहीं अंदरूनी तौर पर भी कई बदलाव आते हैं. इस उम्र में ज्यादातर लोगों को बुढ़ापे से होने वाली समस्याओं से गुजरना पड़ता है. बुढ़ापा आते ही शरीर का मेटाबॉलिज्म कमजोर हो जाता है. मसल्स मास कम हो जाता है. साथ ही बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है. इस समय आपको अपने सेहत की खास खयाल रखने की जरूरत है. अगर आप 60 की उम्र में बीमारियों से बचे रहना चाहते है तो आज से ही इन टिप्स को फॉलो करें. ऐसा करने से आप शारीरिक ही नहीं मानसिक तौर पर भी स्वस्थ रहेंगे.

दिल तो बच्चा है जी…

s

अगर आप मन से यंग हैं तो आपका शरीर भी आपका साथ देने के लिए तैयार रहेगा लेकिन अगर आपने मन में यह सोच लिया कि आपकी उम्र अब इन सब चीजों के लिए नहीं है तो यकीन मानिए आप केवल घर से हास्पिटल तक ही चक्‍कर लगाते रह जाएंगे. मन से पॉजिटिव रहिए और यह ठानिए कि आप बूढ़े नहीं हैं.

रूटीन बनाना है जरूरी

s

60 की उम्र में आपका ऑफिस जाना बंद हो गया हो तो अपना एक रूटीन सेट करिए। अपने को व्यस्त रखना और खुद को क्रिएटिव कामों में लगाये रहना बहुत जरुरी है।

खान-पान का रखें ध्यान

s

अगर आपको फिट रहना है तो अपने खान पान पर विशेष ध्‍यान रखने की जरूरत है. एजयूके के मुताबिक, अगर आप गुड हेल्‍थ, एनर्जी से नज़दीकी और बीमारियों से दूरी चाहते हैं तो अपने डायट का विशेष ख्‍याल रखें. अपने खाने में खूब सारे फल, हरी सब्जियां, ऑयली फिश और होल ग्रेन को शामिल करें. इसके अलावा, आप अपने डायट में हल्‍का डेयरी प्रोडक्‍ट और लीन मीट शामिल कर सकते हैं. सैचुरेटेड फैट से बचें. एक उम्र के बाद पाचन शक्ति उतनी मज़बूत नहीं रहती. ऐसे में डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें.

हाॅबी जॉइन करें

s

खुद को खुश रखने के लिए हर वो चीज़ करिये जो जिंदगी में आप पहले नहीं कर पाए। कोई लाइट स्पोर्ट्स खेलिये या फिर कोई हॉबी क्लासेस जॉइन कीजिये। चाहे तो एक अच्छा सा  कराओके गिफ्ट करिये और खुद के अंदर छिपे उस सिंगर को बाहर आने को मौका तो दीजिये।

डॉक्टरी जांच भी है ज़रूरी

s

छोटे बड़े किसी भी तरह की हेल्‍थ प्रॉब्‍लम को इग्‍नोर ना करें. साल में दो बार ओवरऑल चेकअप जरूर कराएं. खुद पर खर्च करने को अतिरिक्त खर्च न मानें. अगर आप सही समय पर डॉक्‍टर के साथ अपनी समस्‍याओं को डिस्‍कस कर लेंगे तो आपका खर्च भी कम होगा.

टहलें या जॉगिंग करें

s

नियमित रूप से 20-30  मिनट लगातार वॉक करें। अगर आपका डाक्टर कहे तो तब आपको वॉक-जॉग का प्रयास करना चाहिए। एक मिनट वॉक करें और एक मिनट जॉगिंग करें। 

दोस्तों का साथ है ज़रूरी

s

ऐसे में आपका अकेलापन महसूस करना लाज़मी है। तो क्यूं ना सोशलाइजिंग बढ़ाई जाए और अपने दोस्तों का दायरा भी। इससे आपके शुक-दुख भी शेयर होगें और आपका मन भी खुश रहेगा।

अब तो वक्त आया है खुल के जीने का

s

कभी बच्चों की पढ़ाई तो कभी नौकरी का टेंशन, ये सब करते करते ज़िन्दगी आपको बहुत दूर ले आई है। अपने लाइफ पार्टनर के साथ घूमने का, खुद पर खर्च करने का वक्त यही है। 

कुछ हल्की एक्सरसाइज करें

कंधे की स्ट्रेचिंग-  कंधे आगे की ओर ना झुकें इसके लिए अपने एक हाथ को दूसरे हाथ के कंधे की ओर ले जाएं और अपने दूसरे हाथ से मुड़े हुए हाथ को पकड़ने की कोशिश करें. 
रेलिंग के सहारे पैर का व्यायाम-  कुर्सी या रेलिंग के सहारे पीठ सीधी करके खड़े हो जाएं। उसके बाद बारी बारी से अपने पैर उठयें। 

इन बातों का भी रखें ख्याल-

कैफीन और अल्कोहल के सेवन से बचना इस उम्र में है ज़रूरी
खुद को हाइड्रेटेड रखें और शरीर में पानी की कमी न होने दें।
ओवर स्ट्रेचिंग से बचें,एक दिन में 30 मिनट से अधिक  व्यायाम न करें। वक्त पर  खाएं और पर्याप्त नींद जरूर लें।
पौष्टिक हो आपकी डाइट
 

Post a Comment

From around the web