Best Baby Food: 1 रेसिपी से बढ़ाएं बच्चे की मोटाई और लंबाई

 
s

लाइफस्टाइल डेस्क, जयपुर।। बच्चों के शारीरिक विकास के लिए पोषक तत्वों से भरपूर आहार की जरूरत होती है। शरीर में पोषण की कमी होने से न सिर्फ बच्चों को कई तरह की बीमारियां होने लगती हैं बल्कि उनकी लंबाई भी रुक जाती है। चूंकि एक उम्र के बाद बच्चों की लंबाई नहीं बढ़ती है इसलिए बचपन से ही उन्हें विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियों सहित अन्य हेल्दी आहार देना चाहिए। रिसर्च के अनुसार, बच्चों की लंबाई उनके खानपान पर निर्भर करती है। यदि शुरुआत से ही बच्चों को विटामिन्स, मिनरल और फाइबर युक्त भोजन दिया जाए तो इससे शरीर का विकास थमता नहीं है और ना ही लंबाई रुकती है। बच्चों के खानपान पर ध्यान देने से वह खेलने कूदने और पढ़ाई में भी अव्वल रहता है और मानसिक विकास भी सही तरीके से होता है। आइए जानते हैं बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए उन्हें क्या खिलाना चाहिए...

ऐसे बनाएं हेल्दी ​दही-चावल रेसिपी

सामग्री

घी- 1 बड़ा चम्मच
जीरी- 1/4 छोटा चम्मच
हींग- चुटकीभर
करी पत्ता- 2-3
चावल- 1/2 कटोरी (साफ व धुले हुए)
काली मिर्च- चुटकीभर
तुलसी के पत्ते- 2
पुदीने के पत्ते- 2
पान- जरूरत अनुसार
ताजी दही- 2-3 बड़े चम्मच

विधि

. सबसे पहले कुकर में घी गर्म करें।
. अब इसमें जीरा भूनें।
. जीरा चटकने पर इसमें हींग, करी पत्ता भूनें।
. इसके बाद चावल व इससे तीन गुना पानी मिलाकर 2-3 सीटी बजवाएं।
. अब कुकर को खोलकर चैक करें की चावल पीस गए है नहीं।
. इसके बाद थोड़े से चावल, दही, काली मिर्च पाउडर, तुलसी और पुदीना पत्ती को मिक्सी में डालकर पीस लें।
. इसे बाउल में निकालें।
. मिश्रण ज्यादा गाढ़ा लगे तो इसमें गुनगुना पानी या दही डालकर मिलाएं और बच्चे को खिलाएं।

दही-चावल खाने के फायदे

. शिशु के 6 महीने का होने पर भी उसका पेट नाजुक होता है। ऐसे में उसे खाना पचाने में दिक्कते आते हैं। इसके कारण बच्चे को कब्ज, गैस, पेट फूलना आदि की भी परेशानी रहती है। ऐसे में दही-चावल का मिश्रण खाने से शिशु का पेट ठीक रहता है।

. यह फूड रेसिपी बच्चा आसानी से पचाता है। ऐसे में उसका पाचन तंत्र सही रहता है।

. शिशु को सही पोषण मिलने से गैस, कब्ज, पेट फूलना, एसिडिटी आदि पेट संबंधी समस्याओं से आराम मिलता है।

. बच्चे को पूरा पोषण मिलने से उसका शारीरिक व मानसिक विकास बेहतर तरीके से होता है। इससे शिशु को सही वजन व लंबाई पाने में मदद मिलती है।

.  चावल विटामिन बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स का मुख्य स्त्रोत माना जाता है। इसके सेवन से बच्चे का शारीरिक व मानसिक विकास होने में मदद मिलती है।

. चालव में मौजूद प्रोटीन शिशु की मांसपेशियों व हड्डियों में मजबूती लाता है।

. दही-चावल का यह मिश्रण खाने में हल्का होता है। ऐसे में शिशु को इसे पचाने में आसानी होती है। साथ ही बच्चे को पेट में भारीपन महसूस नहीं होता है।

. चावल में अधिक कैलोरी होने से बच्चे को थकान, कमजोरी की परेशानी दूर होती है। ऐसे में बच्चा दिनभर एनर्जेटिक महसूस करता है।

Post a Comment

From around the web