हरी पत्तेदार सब्जियां मॉनसून में न खाएं , बन सकती हैं बीमारी का कारण

 
पट्टी

बरसात के मौसम में बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है और हमें विशेष खान पान (Food Habit) की हिदायत हर जगह से मिलती है. स्वास्थ्य (Health) की दृष्टि से इस मौसम को विशेषज्ञ बीमारियों के लिए काफी संवेदनशील माना जाता है. सूक्ष्म जीवों के लिए यह मौसम अनुकूल होता है और आसानी से ये हमारे स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित कर सकते हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि मानसून के मौसम में हेल्‍दी रहने के लिए अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को ठीक रखना बहुत जरूरी है और इसके लिए संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए. खास बात यह भी है कि हरी सब्जियों जैसे कई खाद्य पदार्थ हैं 

फ़ूड

जहां पूरे साल हरी पत्तेदार सब्जियों को खाने की सलाह दी जाती है वहीं बरसात में ऐसा करने से मना किया जाता है. आहार विशेषज्ञ मानते हैं कि इस मौसम में नमी बढ़ जाती है जिससे पत्तेदार सब्जियों के पत्‍तों पर कीटाणु अपना घर बसा लेते हैं और प्रजनन करते हैं. ऐसे में बरसात के मौसम में पालक, पत्ता गोभी और फूलगोभी जैसी सब्जियों को नहीं खाना चाहिए.बारिश के मौसम में पानी के दूषित होने का खतरा अधिक होता है. ऐसे अगर दूषित पानी का सेवन किया जाए तो पेट में इंफेक्शन, कालरा, डायरिया और टाइफाइड जैसे रोगों का खतरा बढ़ जाता है. इसलिए जहां तक हो सके पानी को उबालकर पिएं.बरसात के मौसम में आमतौर पर लोग पकौड़े और समोसे आदि खाना पसंद करते  हैं लेकिन इसकी वजह से आप बीमार हो सकते हैं. अगर आप बहुत अधिक तैलीय और मसालेदार खाना खाते हैं तो पेट फूलने या गैस का खतरा बढ़ जाता है. दरअसल बरसात के मौसम में मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है जिससे पेट के लिए भोजन से पोषक तत्वों को अवशोषित करना और डाइजेस्‍ट करना मुश्किल हो जाता है.

Post a Comment

From around the web