Health Tips: वायु प्रदूषण कहीं Lungs Cancer का ना बन जाये कारण, लक्षण दिखने पर न करें इग्नोर

 
वायु प्रदूषण कहीं Lungs Cancer का ना बन जाये कारण, लक्षण दिखने पर न करें इग्नोर

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। बढ़ते प्रदूषण से कई बीमारियां भी होती हैं। वायु प्रदूषण से फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। यह कैंसर किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। शोध में यह भी सामने आया है कि वायु प्रदूषण फेफड़ों के कैंसर का कारण बन सकता है। वैज्ञानिकों के एक अध्ययन से पता चला है कि वायु प्रदूषण से फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ सकता है और साथ ही कई प्रकार के कैंसर से मृत्यु दर भी बढ़ सकती है। तो आइए आपको बताते हैं फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती लक्षण।

फेफड़ों के कैंसर का बढ़ा खतरा
शोध के अनुसार, वैज्ञानिकों ने वायुजनित प्रदूषकों के लिए एक नए तंत्र की खोज की है जो धूम्रपान न करने वालों में भी फेफड़ों के कैंसर का कारण बन सकता है। शोध में पाया गया है कि जलवायु परिवर्तन से जुड़े पार्टिकुलेट मैटर भी वायुमार्ग की कोशिकाओं में घातक परिवर्तन को प्रेरित कर सकते हैं। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि कार से निकलने वाले पार्टिकुलेट मैटर और जीवाश्म ईंधन के धुएं से स्मॉल सेल लंग कैंसर का खतरा बढ़ सकता है। जिसमें धूम्रपान की तुलना में वायु प्रदूषण के कारण फेफड़ों के कैंसर की संभावना अधिक होती है। इसलिए मनुष्य को अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए जलवायु पर विशेष ध्यान देना होगा।

Health Tips: वायु प्रदूषण कहीं Lungs Cancer का ना बन जाये कारण, लक्षण दिखने पर न करें इग्नोर

कैंसर के लक्षण
फेफड़ों का कैंसर कई देशों में कैंसर से होने वाली मौतों का प्रमुख कारण है। इस प्रकार का कैंसर फेफड़ों से शुरू होकर शरीर के बाकी हिस्सों में फैलता है। लोग अक्सर इस कैंसर के लक्षणों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं, लेकिन जितनी जल्दी इसकी पहचान हो जाती है, इसका इलाज करना उतना ही आसान हो जाता है। फेफड़ों का कैंसर होने पर ये लक्षण जल्दी दिखाई दे सकते हैं...

खांसी बढ़ जाती है
कफ खांसी

 घरघराहट
 कमज़ोरी
 भूख में कमी
 वजन घटना
 श्वसन तंत्र के संक्रमण
सांस लेते समय सीने में दर्द बढ़ जाना

Health Tips: वायु प्रदूषण कहीं Lungs Cancer का ना बन जाये कारण, लक्षण दिखने पर न करें इग्नोर

ऐसे लक्षण आखिरी स्टेज में देखने को मिलते हैं
 हड्डी में दर्द

 सरदर्द
 चक्कर आना
 संतुलन के साथ कठिनाई
 हाथ और पैर में झुनझुनी
पीलिया
कंधे में दर्द

बचाव कैसे करें?
फेफड़ों के कैंसर से बचाव के लिए आप अपनी आदतों में बदलाव कर सकते हैं। धूम्रपान से बचें। अगर आपके आस-पास कोई धूम्रपान कर रहा है तो उससे दूर रहें। जहरीले रसायनों से बचें। अपने आहार में विटामिन और पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें। नियमित रूप से व्यायाम और व्यायाम करके खुद को फिट रखें। विटामिन को सप्लीमेंट के रूप में न लें। ये सप्लीमेंट सेहत के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

इन खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करें
हरी चाय
ग्रीन टी को आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। इसमें पॉलीफेनोल्स नामक कैंसर रोधी गुण होते हैं। आप इसका नियमित रूप से दिन में दो बार सेवन कर सकते हैं।

रंगीन सब्जियां
आप अपनी डाइट में रंग-बिरंगी सब्जियों को शामिल कर सकते हैं। उज्ज्वल, हरी और नारंगी सब्जियों को आहार का हिस्सा बनाया जा सकता है। यह कैरोटेनॉयड्स से भरपूर होता है।

सोया युक्त खाद्य पदार्थ
आप सोया से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे टोफू, टेम्पू और सोया दूध को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ
आप अपनी डाइट में विटामिन-सी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल कर सकते हैं। आप संतरा, नींबू, पपीता, अमरूद, आंवला, शिमला मिर्च को अपनी डाइट का हिस्सा बना सकते हैं।

Post a Comment

From around the web