Health Tips: सर्दी-जुकाम ने कर रखा है लंबे समय से परेशान, तो शहद के साथ खाएं ये चीज, होंगे चमत्कारी फायदे

 
सर्दी-जुकाम ने कर रखा है लंबे समय से परेशान, तो शहद के साथ खाएं ये चीज, होंगे चमत्कारी फायदे

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। सर्दी का मौसम दस्तक दे चुका है। ऐसे में इस मौसम में कई तरह के संक्रमण फैलते हैं। खासतौर पर सर्दियों में इम्यून सिस्टम बुरी तरह प्रभावित होता है। सर्दियों में अगर आपका इम्यून सिस्टम कमजोर है तो आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होगा। इस मौसम में सर्दी, जुकाम और बुखार जैसी समस्याएं हमें घेर लेती हैं। कई लोग इन समस्याओं से राहत पाने के लिए अदरक, काली मिर्च, तुलसी की चाय का सेवन करते हैं। इन सबके अलावा आप सर्दी की समस्या से राहत पाने के लिए एक और घरेलू उपाय कर सकते हैं। तो आइए जानते हैं इसके बारे में...

शहद और लहसुन
शहद और लहसुन का सेवन करने से कई समस्याओं से निजात मिलती है। शहद में एंटीबैक्टीरियल, एंटीबायोटिक, एंटीफंगल, एंटी-इंफेक्शन गुण पाए जाते हैं, जो सर्दी, फ्लू जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करते हैं। इसके अलावा लहसुन में एलिसिन और फाइबर होता है जो वजन कम करने में आपकी मदद करता है।

सर्दी-जुकाम ने कर रखा है लंबे समय से परेशान, तो शहद के साथ खाएं ये चीज, होंगे चमत्कारी फायदे

गले का दर्द दूर होगा
अगर आपके गले में खराश है तो आप लहसुन और शहद का सेवन करके इस समस्या से राहत पा सकते हैं। इसके अलावा यह सूजन को कम करने में भी मदद करता है। यह घरेलू उपाय आपको गले की समस्या से राहत दिलाने में मदद करता है।

सर्दी-जुकाम ने कर रखा है लंबे समय से परेशान, तो शहद के साथ खाएं ये चीज, होंगे चमत्कारी फायदे

बढ़ते वजन पर नियंत्रण रखें
अगर आपका वजन बढ़ रहा है तो उस समस्या से राहत पाने के लिए आप लहसुन और शहद का सेवन कर सकते हैं। इस मिश्रण का सेवन करने से आपके शरीर की अतिरिक्त चर्बी भी कम होती है। इसके अलावा यह मोटापे को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत करें
लहसुन और शहद के नियमित सेवन से आपका इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है। शोध के अनुसार रोजाना लहसुन और शहद का सेवन करने से आपके शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

दिल को स्वस्थ रखे
लहसुन और शहद को मिलाकर खाने से आपका दिल भी स्वस्थ रहता है। यह हृदय की धमनियों में पाई जाने वाली चर्बी को दूर करता है। इससे आपका ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और ब्लॉकेज और ब्रेन स्ट्रोक का खतरा भी कम होता है।

Post a Comment

From around the web