कैसे होती है सिकल सेल डिजीज, जानिए इसके लक्षण और कारण

 
कैसे होती है सिकल सेल डिजीज, जानिए इसके लक्षण और कारण

ल़ाईफस्टाइल न्यूज डेस्क।। इस बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 19 जून को यह दिन मनाया जाता है। सिकल सेल एक ऐसी बीमारी है जिसमें रक्त में मौजूद हीमोग्लोबिन बुरी तरह प्रभावित होता है। जिससे लाल रक्त कोशिकाओं का आकार भी बिगड़ जाता है। इस बीमारी के कारण मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। अगर इस बीमारी की समय पर पहचान और इलाज नहीं किया गया तो कई गंभीर समस्याएं पैदा हो सकती हैं। तो आइए आपको बताते हैं इस बीमारी के लक्षण और कारण।

सिकल सेल रोग कैसे होता है?

PunjabKesari
 विशेषज्ञों के अनुसार, रोग रक्त में पाए जाने वाले हीमोग्लोबिन में असामान्य एचबी श्रृंखला का कारण बनता है, जिससे लाल रक्त कोशिकाओं का आकार भी बिगड़ जाता है। हीमोग्लोबिन शरीर की सभी कोशिकाओं तक पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचाता है, लेकिन इस रोग के कारण रक्त कोशिकाओं को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है। यह रोग सिकल सेल एनीमिया, सिकल सेल थैलेसीमिया जैसी बीमारियों का कारण बनता है।

रोग कैसे होता है?

PunjabKesari
विशेषज्ञों के अनुसार यह रोग अनुवांशिक कारणों से होता है। यदि किसी के माता-पिता इस भयानक बीमारी की चपेट में हैं, तो उन्हें सिकल सेल रोग होने का खतरा अधिक होता है। कभी-कभी सिकल सेल जीन एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में स्थानांतरित हो जाते हैं और यह रोग कई अन्य कारणों से भी हो सकता है। अगर आपको भी इस बीमारी के कोई लक्षण दिखाई दें तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

इसका इलाज क्या है?

PunjabKesari
इस रोग से लड़ने वाले व्यक्ति को बार-बार रक्त चढ़ाने की आवश्यकता होती है। इस रोग के कारण रोगी को दर्द होता है, जिसका उपचार हाइड्रोक्सी यूरिया से किया जाता है। इससे बचने के लिए शादी से पहले जेनेटिक काउंसलिंग करना जरूरी है। वैसे इस बीमारी के इलाज के लिए जीन थेरेपी सही साबित हो रही है। इससे रोग की गंभीरता को कम किया जा सकता है। जबकि कई मरीजों में लक्षणों के अनुसार इसका इलाज किया जाता है।

Post a Comment

From around the web