Thyroid Diet Plan: मरीजों को जानिए थायराइड में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

 
Thyroid Diet Plan: मरीजों को जानिए थायराइड में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं

लाइफस्टाइल न्यूज़ डेस्क।।  खराब लाइफस्टाइल की वजह से डायबिटीज, थायराइड, यूरिक एसिड जैसी बीमारियां बढ़ रही हैं। कहीं गलत खान-पान भी इन बीमारियों को बढ़ावा दे रहा है। हाइपोथायरायडिज्म में, थायराइड आपको अधिक वजन का बना देता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर पर्याप्त हार्मोन का उत्पादन नहीं करता है। थायराइड हार्मोन वृद्धि, कोशिका की मरम्मत और चयापचय को विनियमित करने में मदद करते हैं। हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों को थकान, बालों का झड़ना, वजन बढ़ना, ठंड लगना जैसी समस्याओं का अनुभव हो सकता है। आयोडीन की कमी से गण्डमाला हो सकती है। इस बीमारी से निजात पाने के लिए आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होगा। तो आइए हम आपको बताते हैं कि थायराइड से राहत पाने के लिए आपको किन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और किन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।

खराब लाइफस्टाइल की वजह से डायबिटीज, थायराइड, यूरिक एसिड जैसी बीमारियां बढ़ रही हैं। कहीं गलत खान-पान भी इन बीमारियों को बढ़ावा दे रहा है। हाइपोथायरायडिज्म में, थायराइड आपको अधिक वजन का बना देता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर पर्याप्त हार्मोन का उत्पादन नहीं करता है। थायराइड हार्मोन वृद्धि, कोशिका की मरम्मत और चयापचय को विनियमित करने में मदद करते हैं। हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों को थकान, बालों का झड़ना, वजन बढ़ना, ठंड लगना जैसी समस्याओं का अनुभव हो सकता है। आयोडीन की कमी से गण्डमाला हो सकती है। इस बीमारी से निजात पाने के लिए आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होगा। तो आइए हम आपको बताते हैं कि थायराइड से राहत पाने के लिए आपको किन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और किन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।  थायराइड में करें इन चीजों का सेवन अंडा आप अंडे खा सकते हैं। अंडे की जर्दी में आयोडीन और सेलेनियम होता है जबकि सफेद प्रोटीन से भरपूर होता है।  मांस आप हर तरह का मीट खा सकते हैं जैसे चिकन, बीफ आदि।  मछली आप मछली का सेवन भी कर सकते हैं। समुद्री मछली खा सकते हैं - सामन, टूना, हलिबूट, झींगा जैसी मछली।  सब्जियां आप सब्जियां भी खा सकते हैं। आप हाई प्रोटीन सब्जियां खा सकते हैं।  फल आप अपने आहार में जामुन, केला, संतरा, अमरूद जैसे फलों को शामिल कर सकते हैं।  बीज इसके अलावा आप क्विनोआ, चिया सीड्स, सनफ्लावर सीड्स का सेवन कर सकते हैं।  दुग्ध उत्पाद आप डेयरी उत्पादों का भी सेवन कर सकते हैं। दूध, पनीर, दही जैसे उत्पादों को आहार में शामिल किया जा सकता है।  इन खाद्य पदार्थों से बचें थायराइड के रोगियों को अत्यधिक प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए। प्रोसेस्ड फ़ूड में बहुत अधिक कैलोरी होती है। बहुत अधिक कैलोरी आपके लिए खराब हो सकती है।  जंक फूड आपको जंक फूड का भी सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा ज्यादा प्रोसेस्ड फूड जैसे हॉट डॉग, केक, कुकीज भी नहीं खानी चाहिए। प्रोसेस्ड फूड में सोडियम की मात्रा बहुत अधिक होती है। इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से थायराइड के मरीजों पर बुरा असर पड़ता है।  लस मुक्त खाद्य पदार्थ थायराइड के मरीजों को भी ग्लूटेन का सेवन कम करना चाहिए। ग्लूटेन से बने खाद्य पदार्थ जैसे गेहूं, जौ और राई भी नहीं खाना चाहिए।  ब्रोकोली और फूलगोभी थायराइड के रोगियों को भी कच्ची या अधपकी हरी पत्तेदार सब्जियां नहीं खानी चाहिए। इनमें एंटीथायरॉइड और गोइट्रोजेनिक गुण होते हैं, जो थायराइड के रोगियों के लिए हानिकारक हो सकते हैं।  मीठा साथ ही आपको ज्यादा चीनी का सेवन भी नहीं करना चाहिए। चीनी आपके पाचन को प्रभावित कर सकती है। इससे आपका वजन भी बढ़ सकता है। इसके अलावा शुगर आपके थायरॉयड ग्रंथि के स्तर को भी नियंत्रित कर सकता है।  सोयाबीन आपको सोयाबीन या सोया उत्पादों का भी सेवन नहीं करना चाहिए। यह थायराइड के खतरे को भी बढ़ा सकता है। सोयाबीन में पाए जाने वाले फाइटोएस्ट्रोजेन थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने वाले एंजाइम के कार्य को भी प्रभावित कर सकते हैं।

थायराइड में करें इन चीजों का सेवन
अंडा
आप अंडे खा सकते हैं। अंडे की जर्दी में आयोडीन और सेलेनियम होता है जबकि सफेद प्रोटीन से भरपूर होता है।

मांस
आप हर तरह का मीट खा सकते हैं जैसे चिकन, बीफ आदि।

मछली
आप मछली का सेवन भी कर सकते हैं। समुद्री मछली खा सकते हैं - सामन, टूना, हलिबूट, झींगा जैसी मछली।

सब्जियां
आप सब्जियां भी खा सकते हैं। आप हाई प्रोटीन सब्जियां खा सकते हैं।

फल
आप अपने आहार में जामुन, केला, संतरा, अमरूद जैसे फलों को शामिल कर सकते हैं।

बीज
इसके अलावा आप क्विनोआ, चिया सीड्स, सनफ्लावर सीड्स का सेवन कर सकते हैं।

दुग्ध उत्पाद
आप डेयरी उत्पादों का भी सेवन कर सकते हैं। दूध, पनीर, दही जैसे उत्पादों को आहार में शामिल किया जा सकता है।

इन खाद्य पदार्थों से बचें
थायराइड के रोगियों को अत्यधिक प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए। प्रोसेस्ड फ़ूड में बहुत अधिक कैलोरी होती है। बहुत अधिक कैलोरी आपके लिए खराब हो सकती है।

जंक फूड

खराब लाइफस्टाइल की वजह से डायबिटीज, थायराइड, यूरिक एसिड जैसी बीमारियां बढ़ रही हैं। कहीं गलत खान-पान भी इन बीमारियों को बढ़ावा दे रहा है। हाइपोथायरायडिज्म में, थायराइड आपको अधिक वजन का बना देता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर पर्याप्त हार्मोन का उत्पादन नहीं करता है। थायराइड हार्मोन वृद्धि, कोशिका की मरम्मत और चयापचय को विनियमित करने में मदद करते हैं। हाइपोथायरायडिज्म से पीड़ित लोगों को थकान, बालों का झड़ना, वजन बढ़ना, ठंड लगना जैसी समस्याओं का अनुभव हो सकता है। आयोडीन की कमी से गण्डमाला हो सकती है। इस बीमारी से निजात पाने के लिए आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना होगा। तो आइए हम आपको बताते हैं कि थायराइड से राहत पाने के लिए आपको किन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और किन खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।  थायराइड में करें इन चीजों का सेवन अंडा आप अंडे खा सकते हैं। अंडे की जर्दी में आयोडीन और सेलेनियम होता है जबकि सफेद प्रोटीन से भरपूर होता है।  मांस आप हर तरह का मीट खा सकते हैं जैसे चिकन, बीफ आदि।  मछली आप मछली का सेवन भी कर सकते हैं। समुद्री मछली खा सकते हैं - सामन, टूना, हलिबूट, झींगा जैसी मछली।  सब्जियां आप सब्जियां भी खा सकते हैं। आप हाई प्रोटीन सब्जियां खा सकते हैं।  फल आप अपने आहार में जामुन, केला, संतरा, अमरूद जैसे फलों को शामिल कर सकते हैं।  बीज इसके अलावा आप क्विनोआ, चिया सीड्स, सनफ्लावर सीड्स का सेवन कर सकते हैं।  दुग्ध उत्पाद आप डेयरी उत्पादों का भी सेवन कर सकते हैं। दूध, पनीर, दही जैसे उत्पादों को आहार में शामिल किया जा सकता है।  इन खाद्य पदार्थों से बचें थायराइड के रोगियों को अत्यधिक प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ खाने से बचना चाहिए। प्रोसेस्ड फ़ूड में बहुत अधिक कैलोरी होती है। बहुत अधिक कैलोरी आपके लिए खराब हो सकती है।  जंक फूड आपको जंक फूड का भी सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा ज्यादा प्रोसेस्ड फूड जैसे हॉट डॉग, केक, कुकीज भी नहीं खानी चाहिए। प्रोसेस्ड फूड में सोडियम की मात्रा बहुत अधिक होती है। इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से थायराइड के मरीजों पर बुरा असर पड़ता है।  लस मुक्त खाद्य पदार्थ थायराइड के मरीजों को भी ग्लूटेन का सेवन कम करना चाहिए। ग्लूटेन से बने खाद्य पदार्थ जैसे गेहूं, जौ और राई भी नहीं खाना चाहिए।  ब्रोकोली और फूलगोभी थायराइड के रोगियों को भी कच्ची या अधपकी हरी पत्तेदार सब्जियां नहीं खानी चाहिए। इनमें एंटीथायरॉइड और गोइट्रोजेनिक गुण होते हैं, जो थायराइड के रोगियों के लिए हानिकारक हो सकते हैं।  मीठा साथ ही आपको ज्यादा चीनी का सेवन भी नहीं करना चाहिए। चीनी आपके पाचन को प्रभावित कर सकती है। इससे आपका वजन भी बढ़ सकता है। इसके अलावा शुगर आपके थायरॉयड ग्रंथि के स्तर को भी नियंत्रित कर सकता है।  सोयाबीन आपको सोयाबीन या सोया उत्पादों का भी सेवन नहीं करना चाहिए। यह थायराइड के खतरे को भी बढ़ा सकता है। सोयाबीन में पाए जाने वाले फाइटोएस्ट्रोजेन थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने वाले एंजाइम के कार्य को भी प्रभावित कर सकते हैं।
आपको जंक फूड का भी सेवन नहीं करना चाहिए। इसके अलावा ज्यादा प्रोसेस्ड फूड जैसे हॉट डॉग, केक, कुकीज भी नहीं खानी चाहिए। प्रोसेस्ड फूड में सोडियम की मात्रा बहुत अधिक होती है। इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से थायराइड के मरीजों पर बुरा असर पड़ता है।

लस मुक्त खाद्य पदार्थ
थायराइड के मरीजों को भी ग्लूटेन का सेवन कम करना चाहिए। ग्लूटेन से बने खाद्य पदार्थ जैसे गेहूं, जौ और राई भी नहीं खाना चाहिए।

ब्रोकोली और फूलगोभी
थायराइड के रोगियों को भी कच्ची या अधपकी हरी पत्तेदार सब्जियां नहीं खानी चाहिए। इनमें एंटीथायरॉइड और गोइट्रोजेनिक गुण होते हैं, जो थायराइड के रोगियों के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

मीठा
साथ ही आपको ज्यादा चीनी का सेवन भी नहीं करना चाहिए। चीनी आपके पाचन को प्रभावित कर सकती है। इससे आपका वजन भी बढ़ सकता है। इसके अलावा शुगर आपके थायरॉयड ग्रंथि के स्तर को भी नियंत्रित कर सकता है।

सोयाबीन
आपको सोयाबीन या सोया उत्पादों का भी सेवन नहीं करना चाहिए। यह थायराइड के खतरे को भी बढ़ा सकता है। सोयाबीन में पाए जाने वाले फाइटोएस्ट्रोजेन थायराइड हार्मोन का उत्पादन करने वाले एंजाइम के कार्य को भी प्रभावित कर सकते हैं।

Post a Comment

From around the web