पीरियड्स में साफ-सफाई के साथ इन बातों का भी रखें खास ध्यान ,संक्रमण से बचे रहने के लिए

 
पीरियड

पीरियड्स के दौरान ज्यादातर महिलाएं संक्रमण का शिकार हो जाती हैं। जिसकी सबसे बड़ी वजह है साफ-सफाई की कमी। जरा सी लापरवाही और जानकारी के अभाव में यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन, वेजाइनल इन्फेक्शन जैसी समस्याएं हो जाती है और सही समय पर अगर डॉक्टर से संपर्क न किया गया तो ये और गंभीर रूप धारण कर सकते हैं। इसलिए इस दौरान आपको ज्यादा सफाई और ध्यान देने की जरूरत होती है। आइए जान लेते हैं इस दौरान किस तरह की स्वच्छता महिलाओं के लिए है जरूरी।पीरियड्स के टाइम लगातार गीलेपन से वजह से अनकंफर्टेबल फील होता रहता है और इसी से इन्फेक्शन होने के चांसेज़ रहते हैं।

पीरियड

तो बहुत ज्यादा गीलापन फील हो तो पैड बदल जरूर बदलें। 6-7 घंटे के अंतराल में पैड बदलने की आदत डालें। वॉशरूम जाएं तो नीचे टिश्यू पेपर का इस्तेमाल जरूर करें।   गंदे हाथों से पैड को कभी न इस्तेमाल करें। लगाते और रिमूव करते वक्त हाथ साफ़ होने चाहिए।  अपने इनरवेयर्स को हमेशा धूप में ही सुखाना चाहिए। इससे बैक्टीरियल इंफेक्शन के चांसेज काफी हद तक कम हो जाते हैं। इनरवेयर्स से डिटरर्जेंट अच्छी तरह से निकल जाए इसका भी ध्यान रखें। साथ ही उन्हें ऐसी जगह रखें जहां नमी न हो।

 आजकल मार्केट में कई तरह के प्राइवेट पार्ट वॉश अवेलेबल हैं तो साबुन की जगह उनका इस्तेमाल करें। साबुन का यूज नेचुरल पीएच लेवल को बिगाड़ देता है।   प्राइवेट टॉयलेट यूज करते वक्त सावधानी बरतें बहुत ज्यादा गंदा हो तो टॉयलेट स्प्रे यूज करें।ऑफिस, कॉलेज, मॉल में बाथरूम यूज़ करने से पहले फ्लश जरूर कर लें। .पीरियड्स में रात को सोने से पहले गुनगुने पानी से इंटीमेट एरिया को साफ कर लें या पॉसिबल हो तो नहा ही लें।इतना सब करने के बाद भी अगर बहुत ज्यादा खुजली, जलन या दाने वगैरह की प्रॉब्लम हो तो डॉक्टर से दिखाना ही बेहतर उपाय है।

Post a Comment

From around the web