California कोविड वैरिएंट लोगों को फिर से कर सकता है संक्रमित : शोध

 
s

अमेरिकी शोधकर्ताओं की एक टीम ने पाया है कि कैसे कैलिफोर्निया में सामने आया कोरोनावायरस का वैरिएंट मानव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली और अपने फैलने की क्षमता के साथ किस तरह परस्पर क्रिया करता है। कैलिफोर्निया का वेरिएंट वास्तव में दो अलग-अलग रूपों में आता है- बी1427 और बी1429 और प्रत्येक में उत्परिवर्तन का एक अनूठा संयोजन होता है। लेकिन उन्हें एक ही प्रकार के रूप में जोड़ा जाता है, क्योंकि वे कुछ अलग उत्परिवर्तन साझा करते हैं, जो स्पाइक प्रोटीन को प्रभावित करते हैं।

शुरुआती डेटा में कहा गया था कि जनवरी, 2021 में पहली बार पता चला था कि यह वैरिएंट सार्स-कोव-2 के अनम्यूटेड स्ट्रेन की तुलना में अधिक पारगम्य है, जो वायरस कोविड-19 का कारण बनता है, जिससे यह विकसित हुआ।

अब, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय-सैन फ्रांसिस्को, ग्लैडस्टोन संस्थानों और कैलिफोर्निया के अन्य संगठनों के शोधकर्ताओं के बीच एक बहुआयामी सहयोग से आए निष्कर्ष के मुताबिक, कैलिफोर्निया का घरेलू वैरिएंट उन लोगों को फिर से संक्रमित कर सकता है, जिन्हें पहले कोविड-19 का संक्रमण हो चुका था।

यूसीएसएफ-एबॉट वायरल डायग्नोस्टिक्स एंड डिस्कवरी सेंटर के निदेशक चार्ल्स चिउ ने कहा, “टेक-होम संदेश यह है कि हर किसी को टीका लगवाना चाहिए, भले ही आप पहले संक्रमित हो चुके हों।”

जर्नल सेल में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार, शोधकर्ताओं ने कैलिफोर्निया के दर्जनों काउंटियों में किए गए 2,172 कोविड-19 स्वाब परीक्षणों के नमूनों का अनुक्रम किया। अनुक्रमों के विश्लेषण से सामने आया कि यह वैरिएंट मई, 2020 में उभरा और बाद में दो मौजूदा रूपों को जन्म दिया।

1 सितंबर, 2020 और 29 जनवरी, 2021 के बीच अनुक्रमित नमूनों में वैरिएंट की व्यापकता 0 प्रतिशत से बढ़कर 50 प्रतिशत से अधिक हो गई। इसकी संप्रेषण क्षमता असंक्रमित वायरल उपभेदों की तुलना में 24 प्रतिशत अधिक थी, और नए संस्करण से संक्रमित लोगों के स्वाब नमूनों में असंक्रमित उपभेदों से संक्रमित लोगों की तुलना में दो गुना अधिक वायरस मौजूद थे।

शोधकर्ताओं ने ‘स्यूडोवायरस’ उत्पन्न किया – हानिरहित वायरस – जिसमें विभिन्न उत्परिवर्तन के साथ सार्स-कोव-2 स्पाइक प्रोटीन होते हैं। टीम ने तीन अलग-अलग स्पाइक प्रोटीन म्यूटेशन की तुलना की, जिनमें से दो कैलिफोर्निया वैरिएंट में पाए जाते हैं और एक, जो आमतौर पर दुनियाभर में प्रमुख वैरिएंट में पाया जाता है।

उन्होंने पाया कि कैलिफोर्निया वैरिएंट के उत्परिवर्तनों में से एक के साथ स्यूडोवायरस, जिसे एल 452 आर के नाम से जाना जाता है, अन्य उत्परिवर्तनों को ले जाने वाले स्यूडोवायरस की तुलना में मानव कोशिकाओं को संक्रमित करने में सक्षम था।

ग्लैडस्टोन इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के निदेशक मेलानी ओट ने कहा, “इससे पता चलता है कि एल452आर उत्परिवर्तन वायरस की कोशिका में प्रवेश करने की क्षमता को बढ़ाता है, जो यह बता सकता है कि कैलिफोर्निया संस्करण ने ट्रांसमिसिबिलिटी क्यों बढ़ाई है।”

प्रयोगों से पता चला कि नए वैरिएंट को पहले से संक्रमित रोगियों के एंटीबॉडी द्वारा केवल मामूली रूप से बेअसर किया गया था। लेकिन टीका लगाए गए रोगियों के एंटीबॉडी ने उच्च स्तर की न्यूट्रलाइजेशन दिखाया।

–आईएएनएस

Post a Comment

From around the web