बच्चों को इस मौसम में हो रही है बुखार के साथ ही कंपकंपी तो हो जाएं अलर्ट, ओमिक्रोन के हो सकते है ये लक्षण

 
बच्चों को इस मौसम में हो रही है बुखार के साथ ही कंपकंपी तो हो जाएं अलर्ट, ओमिक्रोन के हो सकते है ये लक्षण

हैल्थ न्यूज डेस्क।। 15 से 18 साल के बच्चों को कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच वैक्सीन लगना तो शुरू हो गया है, पर कई सारे बच्चों के इस बीच संक्रमित होने की जानकारी भी सामने आ रही है। वैक्सीन लेने वाले इसमें छोटे बच्चों के अलावा 15 से 18 साल के बच्चे भी शामिल हैं। दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉ धीरेन गुप्ता ने रविवार को बताया कि कोविड​​-19 संक्रमित बच्चों और किशोरों में 11 से 17 साल के तेज बुखार और कंपकंपी जैसे लक्षण भी नजर आ रहे है। आइए आपको बताते हैं, बच्चों में ये लक्षण गंभीर है या सामान्य....

सामान्य है ये लक्षण

हल्‍का बुखार, एक या दो दिन बदन दर्द कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले बच्चों को हो सकता है। इसके अलावा सर्दी, सर्द दर्द और जुकाम की समस्या हो सकती है।

ये लक्षण ना करें नजरअंदाज

उन्होंने कहा कि ये लक्षण दो साल से कम उम्र के बच्चों में भी ये लक्षण दिख रहे हैं। उनमें से कुछ को अस्पताल में भर्ती भी करना पड़ रहा है। डॉ धीरेन गुप्ता का कहना है कि जिन बच्चों को  तेज बुखार और कंपकंपी जैसे लक्षण दिखाई देते है, उन्हें सावधान रहने की जरुरत है। स्वाद-गंध का जाना जरूरी नहीं

लेकिन 10 में से केवल दो से तीन मरीज स्वाद और गंध जाने के बारे में शिकायत कर रहे हैं। सर गंगाराम अस्पताल के चाइल्ड स्पेशलिस्ट का कहना है कि डेल्टा वेरिएंट की तरह ओमीक्रॉन में बच्चों का स्वाद और गंध जाना जरूरी नहीं है। 

2 साल से कम के बच्चों में हाई रिस्क

दिल्ली के अस्पताल में भर्ती हुए 9 बच्चों में से 1 को वेंटिलेशन सपोर्ट की जरूरत पड़ी है। हाई फीवर में बच्चों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत होती है।'डॉ. गुप्ता ने कहा, 'मेरे एक्सपीरियंस से दो साल से कम उम्र के बच्चे जो हाई रिस्क ग्रुप के होते हैं उनमें संक्रमण की गंभीरता लगभग डेल्टा वेरिएंट के समान है। 

बच्चों को इस मौसम में हो रही है बुखार के साथ ही कंपकंपी तो हो जाएं अलर्ट, ओमिक्रोन के हो सकते है ये लक्षण

वैक्सीनेटेड बच्चों को कम शिकायत

बता दें कि पिछले दिनों वैक्सीन लेने वाले कई बच्चे कोरोना की चपेट में आ गए है। कोविड-19 वैक्सीन लेने वाले किशोरों के लक्षण उन लोगों की तुलना में कम गंभीर होते हैं, जिन्हें टीका नहीं लगवाया है। 

ओमीक्रॉन से अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट पर असर

कोरोना का नया ओमीक्रॉन वेरिएंट मरीजों के अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट पर ही प्रभाव डाल रहा है, एक्सपर्ट्स का कहना है कि बच्चों का रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट वयस्कों की तुलना में छोटा होता है, इसलिए बच्चों में इससे परेशानी बढ़ने की संभावनाएं ज्यादा हैं।

कोविड के बाद निमोनिया का भी खतरा

उन्होंने कहा कि 'अब तक मैं तीन ऐसे मरीजों को देख चुका हूं, जिन्हें निमोनिया हुआ है। इलाज के लिए उन्हें स्टेरॉयड की जरूरत पड़ी थी। 'डॉ. गुप्ता ने बताया कि जो मरीज कुछ इम्यूनोसप्रेसेन्ट ले रहे हैं, उनमें निमोनिया होने की संभावना होती है। 

कोविड पॉजिटिव बच्चों के खानपान का रखें ख्याल

बच्चों के हेल्‍दी डाइट दें और खूब पानी पिलाएं। संक्रमित बच्चों की डाइट में प्रोटीन, विटामिन्स और अन्य पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए उन्हें हरी सब्जियां, दूध-दही, पनीर और मौसमी ताजे फल जरूर खाएं। 

Post a Comment

From around the web