हल्‍के में न लें बिल्‍कुल भी Omicron variant के इन लक्षणों को, आसानी से आ सकते हैं इस तरह के लोग चपेट में

 
हल्‍के में न लें बिल्‍कुल भी Omicron variant के इन लक्षणों को, आसानी से आ सकते हैं इस तरह के लोग चपेट में

हैल्थ न्यूज डेस्क।। एक बार फिर से दहशत कोविड-19 के ओमीक्रॉन वैरिएंट ने लोगों में पैदा कर दी है। यह नया वैरिएंट WHO के अनुसार, वायरस के व्यवहार को ही बदल देता है। साउथ अफ्रीका के साथ भारतीय लोगों की चिंताएं भी इस वैरिएंट ने बढ़ा दी हैं। विशेषज्ञ कहते हैं कि और भी ज्यादा खतरनाक यह नया संस्करण डेल्टा वैरिएंट की तुलना में हो सकता है। बता दें कि दक्षिण अफ्रीका ने पिछले दो हफ्तों में नए मामलों में चार गुना वृद्धि दर्ज की है। कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों के लिए यह बहुत घातक है। दुनियाभर के टक्रीकल एडवायजरी ग्रुप इस नए वैरिएंट पर लगातार नजर बनाए हुए हैं, ताकि संक्रमण की गंभीरता का पता लगाया जा सके। 

उन्होंने इसके लक्षणों को जानने और सावधान रहने की सलाह दी है। बता दें कि B.1.1.529 वैरिएंट को पहली बार 24 नवंबर 2021 को दक्षिण अफ्रीका से WHO को जानकारी दी गई थी। कोविड-19 के ओमीक्रॉन वैरिएंट के तेजी से बढ़ने के मामलों के साथ हाल ही में दक्षिण अफ्रीकी विशेषज्ञों ने उन लक्षणों का खुलासा किया, जो कोविड-19 रोग के मरीजों में इस नए वैरिएंट के कारण देखे गए हैं। 

उन्होंने खुलासा किया है कि मरीज अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत के बिना पूरी तरह से ठीक होने में सक्षम है। बता दें कि उन्होंने पिछले 10 दिनों में अपरीचित लक्षणों वाले 30 से ज्यादा कोविड-19 रोगियों का इलाज किया है। उन्होंने बताया है कि मरीज के लक्षण डेल्टा वेरिएंट से काफी अलग हैं।दक्षिण अफ्रीकी मेडिकल एसोसिएशन की अध्यक्ष डॉ.एंजेलिक कोएत्जी के अनुसार, इसके लक्षणों में जरूरत से ज्यादा थकान, मांसपेशियों में हल्का दर्द, गले में खराश और सूखी खांसी शामिल है। जबकि कुछ मामलो में ही हल्का तेज बुखार दिखाई दे सकता है। 

हल्‍के में न लें बिल्‍कुल भी Omicron variant के इन लक्षणों को, आसानी से आ सकते हैं इस तरह के लोग चपेट में

वह कहती हैं कि सबसे ज्यादा लोग एक से दो दिन तक गंभीर थकान की शिकायत कर रहे हैं। इसके साथ ही लोगों को सिरदर्द और शरीर में दर्द भी महसूस हो रहा है। कोएत्जी का कहना है कि वैरिएंट 40 या उससे कम उम्र के लोगों को प्रभावित कर रहा है। जिन लोगों में ओमीक्रॉन के लक्षण दिख रहे हैं, उनमें से लगभग आधे रोगियों का टीकाकरण नहीं हुआ है। 

सामाजिक दूरी बनाए रखें। भीड़-भाड़ वाली जगहों पर मासक पहने रहें। भीड़भाड़ वाली सामूहिक जगहों पर अच्छा वेंटिलेशन हो, इसका ध्यान रखें। इसके अलावा नियमित रूप से हाथों और सतहों को धोने की अब भी जरूरत है। विशेषज्ञ अब भी कोविड-19 से बचने के लिए वैक्सीनेशन पर जोर दे रहे हैं। उनका कहना है कि नए स्ट्रेन से बचने के लिए सावधानी अब भी जरूरी है। 

विशेषज्ञ टीकाकरण होने के बाद भी इसके लक्षणों को पहचानने और सावधानी बरतने की सलाह दे रहे हैं। ओमीक्रॉन वेरिएंट का डर दुनियाभर में फैल गया है। 

Post a Comment

From around the web