Hospital के बाहर दर्जनों गंभीर संक्रमित मरीज करते रहे इंतजार, ऑक्सीजन की कमी के कारण नहीं खुले दरवाजे

 
Hospital के बाहर दर्जनों गंभीर संक्रमित मरीज करते रहे इंतजार, ऑक्सीजन की कमी के कारण नहीं खुले दरवाजे

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली के अस्पतालों के बाहर मरीजों की बेबसी और लाचारी साफ जाहिर होने लगी है, हालात ये हो चुकी है कि अस्पतालों ने अपने दरवाजे मरीजों के लिए बंद कर दिए हैं और मरीज बेदम हो रहे हैं। मरीजों के परिजन अस्पतालों के बाहर गिड़गिड़ा रहे हैं, लेकिन मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है।

एनएलजेपी अस्पताल के बाहर ऑटो से मरीज को लेकर आए शख्श ने आईएएनएस को बताया कि, “मरीज को भर्ती नहीं कर रहे हैं, मना कर रहे हैं। बोला गया है कि अस्पताल के सीएमओ से बात करो, मेडिकल डायरेक्टर ने मना कर रखा है।”

यही अकेले नहीं है जो भर्ती होने के लिए सुरक्षाकर्मियों से गुजारिश कर रहे हैं। किरण भाटिया भी अपनी मां को ऑटो में लेकर इंतजार कर रही हैं कि कब अस्पताल प्रबंधक कहेंगे की आ जाओ मरीज को भर्ती कर रहे हैं।

अस्पताल के बाहर गिने चुने मरीज इंतजार ही कर रहे थे की देखते ही देखते संक्रमित मरीजों की कतार लग गई, कुछ एम्बुलेंस में मरीज आए तो कुछ ऑटो में सवार हो कर आए, लेकिन हर किसी को निराशा ही हाथ लगी।

हमने इस मसले पर एनएलजेपी अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर सुरेश कुमार से बात की उन्होंने बताया कि, “ऑक्सीजन के तीन टैंक आते थे, जो कि सिर्फ दो ही आए हैं। टैंक लेट होने के कारण ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ गई है।”

“हम उसी को लेकर बैठक कर रहे हैं, हमारे पास 8 घंटे की ऑक्सीजन बची हुई है, अस्पताल के बेड भी फुल हो चुके हैं। ”

हम बाहर खड़े मरीजों को दूसरे अस्पतालों में भेज रहे हैं क्या दिल्ली सरकार को आपने अपनी समस्या बताई है, इसपर सुरेश कुमार ने कहा कि, हमने सूचित कर दिया है।

उधर दूसरी ओर मरीज जिंदगी और मौत की लड़ाई अस्पताल के बाहर लड़ रहे हैं।

अस्पताल के बाहर गंभीर मरीज को लेकर आए अमित शर्मा ने आईएएनएस को बताया कि, “करीब 15 अस्पताल घूम लिए किसी ने भर्ती नहीं किया।”

अमित के साथ आईं एक और परिजन ने कहा कि, ” इतने हेल्पलाइन नम्बर दे रखें है लेकिन कोई जवाब नहीं आ रहा, कब हाथ लगाएंगे मरीज को मरीज मर जायेगा तब ? एम्बुलेंस नहीं मिल रही, न अस्पताल में भर्ती कर रहे हैं।”

अस्पताल के बाहर सुरक्षाकर्मियों ने भी परिजनों को खुल कर कहना शुरू कर दिया है कि हमें मेडीकल डायरेक्टर ने मना किया है।

दरअसल अस्पताल के कुछ डॉक्टरों के मुताबिक अस्पताल में ऑक्सीजन की दिक्कत है जिसके कारण मेडिकल डायरेक्टर ने मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया है।

नयूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE 

Facebook

Twitter

  

Post a Comment

From around the web