सरकार बच्चों के लिए कोविड टिका जल्द शुरू करेगी !

 
सरकार बच्चों के लिए कोविड टिका जल्द शुरू करेगी !

लाइफस्टाइल न्यूज़ डेस्क !!!शीर्ष सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ और निती आयोग के स्वास्थ्य सदस्य डॉ वीके पॉल ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार बच्चों में टीकों के संभावित उपयोग के लिए वैज्ञानिक सत्यापन की तलाश में विशेष रूप से काम कर रही है। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) पॉल ने एक प्रेस वार्ता में बताया कि ज़ायडस कैडिला को पहले ही बच्चों में उपयोग के लिए लाइसेंस दिया जा चुका है और बच्चों में कोवैक्सिन का परीक्षण पूरा होने के करीब है। उन्होंने कहा कि एक बार परिणाम आने के बाद एक और संभावित टीका उपलब्ध होगा।
 
उन्होंने कहा, "केवल कुछ देशों ने बच्चों के लिए टीकाकरण की शुरुआत की है, इसके लिए डब्ल्यूएचओ की कोई सिफारिश नहीं है।" 
गृह मंत्रालय ने प्रधानमंत्री कार्यालय से आग्रह किया कि टीकाकरण अभियान को कॉमरेडिटी वाले बच्चों और विशेष जरूरतों वाले बच्चों के बीच प्राथमिकता दी जानी चाहिए।
Covaxin और Zydus Cadila के अलावा, Bio SE, Covavax, और Novavax सहित अन्य संभावित टीके भी अभी ट्रायल में हैं और जल्द ही उपलब्ध होंगे।
 
बता दें, पिछले हफ्ते लैटिन अमेरिकी देश क्यूबा दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया जिसने दो साल से कम उम्र के बच्चों को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा अभी तक मान्यता नहीं दिए गए अब्दला और सोबराना टीकों का इस्तेमाल करते हुए कोविड टीके दिए है। दोनों टीकों ने बच्चों में अपना नैदानिक ​​परीक्षण पूरा कर लिया है और बताया जा रहा है की 3 सितंबर को, द्वीप राष्ट्र ने स्कूलों के फिर से खुलने से पहले 2-11 वर्ष की आयु के लोगों के लिए अपना टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया।
न्यूज़ हेल्पलाइन

शीर्ष सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ और निती आयोग के स्वास्थ्य सदस्य डॉ वीके पॉल ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार बच्चों में टीकों के संभावित उपयोग के लिए वैज्ञानिक सत्यापन की तलाश में विशेष रूप से काम कर रही है। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) पॉल ने एक प्रेस वार्ता में बताया कि ज़ायडस कैडिला को पहले ही बच्चों में उपयोग के लिए लाइसेंस दिया जा चुका है और बच्चों में कोवैक्सिन का परीक्षण पूरा होने के करीब है। उन्होंने कहा कि एक बार परिणाम आने के बाद एक और संभावित टीका उपलब्ध होगा।
 
उन्होंने कहा, "केवल कुछ देशों ने बच्चों के लिए टीकाकरण की शुरुआत की है, इसके लिए डब्ल्यूएचओ की कोई सिफारिश नहीं है।" 
गृह मंत्रालय ने प्रधानमंत्री कार्यालय से आग्रह किया कि टीकाकरण अभियान को कॉमरेडिटी वाले बच्चों और विशेष जरूरतों वाले बच्चों के बीच प्राथमिकता दी जानी चाहिए।
Covaxin और Zydus Cadila के अलावा, Bio SE, Covavax, और Novavax सहित अन्य संभावित टीके भी अभी ट्रायल में हैं और जल्द ही उपलब्ध होंगे।
 
बता दें, पिछले हफ्ते लैटिन अमेरिकी देश क्यूबा दुनिया का पहला ऐसा देश बन गया जिसने दो साल से कम उम्र के बच्चों को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा अभी तक मान्यता नहीं दिए गए अब्दला और सोबराना टीकों का इस्तेमाल करते हुए कोविड टीके दिए है। दोनों टीकों ने बच्चों में अपना नैदानिक ​​परीक्षण पूरा कर लिया है और बताया जा रहा है की 3 सितंबर को, द्वीप राष्ट्र ने स्कूलों के फिर से खुलने से पहले 2-11 वर्ष की आयु के लोगों के लिए अपना टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया।
 
इज़राइल, अमेरिका और सिंगापुर ने भी फाइजर-बायोएनटेक एसई जैब के साथ 12-18 वर्ष की आयु के बच्चों को टीका लगाया। फ्रांस ने इस साल जून से 12 साल से अधिक उम्र के लोगों को कोविड-19 वैक्सीन की पेशकश शुरू की थी। यूके ने 16 और 17 साल के बच्चों का टीकाकरण शुरू कर दिया है, लेकिन अभी तक 12 से 15 साल के बीच के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू नहीं किया है।नीदरलैंड, स्वीडन, स्पेन, इटली, दुबई, नॉर्वे और कई अन्य देशों ने भी बच्चों का टीकाकरण शुरू कर दिया है।
 
न्यूज़ हेल्पलाइन
 

Post a Comment

From around the web