अगर आप भी करते है पपीता का सेवन तो हो सकती है Skin Allergy, Pregnant Women के साथ ऐसे लोगों के लिए बन सकता है जहर

 
अगर आप भी करते है पपीता का सेवन तो Skin Allergy की हो सकत है समस्या, ये लोग भी करें Pregnant Women के अलावा परहेज

हैल्थ न्यूज डेस्क।। पपीता बीटा-कैरोटीन जैसे एंटीऑक्सीडेंट कैरोटीनॉयड का एक अच्छा स्रोत है जो आंखों की रोशनी बढ़ाने में मदद करता है। पपीता में मैग्नीशियम, पोटेशियम, प्रोटीन और कैरोटीन डायटरी फाइबर भरपूर मात्रा में होता है जो पेट के लिए रामबाण औषधी है। लेकिन इसका सेवन जरूरत से ज्यादा सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है। वहीं, पपीता खाना कुछ लोगों के लिए जहर समान है। किन लोगों को पपीता खाना चाहिए और किन्हें नहीं आइए आज हम आपको बताते हैं...

प्रेगनेंसी में हानिकारक
पपीते में कुछ ऐसे एंजाइम होते हैं, जो गर्भाशय के संकुचन का कारण बन सकती है। एक्सपर्ट गर्भवती महिलाओं को पपीता ना खाने की सलाह देते हैं। पपीते में मौजूद पपैन घटक शरीर की कुछ झिल्लियों को नुकसान पहुंचा सकता है जो भ्रूण के विकास के लिए आवश्यक हैं। क्योंकि पपीते के बीज, जड़ और पत्तियों का अर्क भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकता है। 

ब्रेस्टफीडिंग के दौरान
इसके अंजाइन शिशु के लिए हानिकारक हो सकते हैं। वहीं जब तक बच्चा 1 साल का ना हो जाए उसे भी पपीता ना खिलाएं। ब्रेस्टफीडिंग करवाने वाली मांओं को भी पपीता नहीं खाना चाहिए। 

दवाओं के साथ ठीक नहीं हो सकता
बहुत अधिक पपीता खाने से अन्नप्रणाली को चोट लग सकती है। ऐसे में अगर आप भी खून पतला करनी वाली दवाएं ले रहे हैं तो इससे परेहज करें। पपीता रक्त को पतला करने वाली दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकता है, जिससे आसानी से रक्तस्राव और चोट लग सकती है। 

गुर्दे में पथरी
कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि विटामिन सी गुर्दे की पथरी के जोखिम को बढ़ा सकता है।  एक छोटे पपीते के फल (157 ग्राम) में 96 मिलीग्राम विटामिन-सी (7) पाया जाता है। हालांकि, ऐसा कोई शोध नहीं है जो यह बताता हो कि पपीते के अधिक सेवन से ऐसा हो सकता है।

अगर आप भी करते है पपीता का सेवन तो Skin Allergy की हो सकत है समस्या, ये लोग भी करें Pregnant Women के अलावा परहेज

स्किन के लिए हानिकारक
इससे स्किन पर रैशेज और जलन हो सकती है। पपीते में पपैन नामक एंजाइम होता है, जो स्किन केयर क्रीम बनाने के लिए यूज होता है। लेकिन जिन्हें एलर्जी की शिकायत होती है उनके लिए यह हानिकारक है। 

रेस्पिरेटरी एलर्जी की समस्या
अधिक मात्रा में पपीते का सेवन घबराहट और सांस लेने में दिक्कत का कारण बन सकता है। इसमें मौजूद पपैन नामक एंजाइम अस्थमा, एलर्जी की परेशानी बढ़ा सकता है। 

ब्लड प्रेशर के मरीज करें परहेज
इससे रक्त शर्करा के स्तर में गिरावट आ सकती है, जो खतरनाक हो सकता है। अगर आप पहले से ही उच्च रक्तचाप की दवा ले रहे हैं तो अधिक पपीते का सेवन करने से बचें। 

हार्ट बीट कर सकता है धीमा
इससे हृदय गति धीमी हो सकती है, जिससे हार्ट अटैक का खतरा भी कम रहता है। अगर दिल की बीमारी से जूझ रहे हैं तो पपीता का अधिक सेवन ना करें। 

बढ़ सकती है पेट की समस्या
इससे पेट में गैस, दर्द, जलन जैसी दिक्कतें हो सकती है।  इसमें फाइबर भी अधिक होता है जो दस्त का कारण बन सकता है। इसमें लेटेक्स होता है जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम पर असर डालता है। यह कब्ज के लिए बहुत अच्छा हो सकता है लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन पेट खराब कर सकता है। 

Post a Comment

From around the web