अगर आपको भी हैं ये बुरी आदतें तो हो जाईये सावधान, हो सकता है ब्रेन डैमेज 

 
अगर आपको भी हैं ये बुरी आदतें तो हो जाईये सावधान, हो सकता है ब्रेन डैमेज

भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण लोग सेहत से जुड़ी कोई ना कोई गलती कर बैठते हैं। इसके कारण दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। इसकी वजह से याददाश्त कमजोर होना, ब्रेन टिश्यूज डैमेज होना या अल्जाइमर जैसी परेशानियां झेलनी पड़ सकती है। इन आदतों की वजह से दिमाग के साथ सेहत को भी नुकसान होने का खतरा रहता है। चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी ही आदतों के बारे में बताते हैं, जिसे समय रहते छोड़ देने में ही भलाई है।
अगर आपको भी हैं ये बुरी आदतें तो हो जाईये सावधान, हो सकता है ब्रेन डैमेज

सुबह का खाना छोड़ना
आमतौर पर लोग सुबह जल्दी के चक्कर में नाश्ता छोड़कर जॉब पर चले जाते हैं। मगर ऐसा करने से शरीर का ब्लड शुगर लेवल कम हो जाता है। इसकी वजह से दिमाग में सही मात्रा में पोषक तत्व और न्यूट्रियंस नहीं पहुंच पाते हैं। ऐसे में दिमागी विकास में रुकावटें आने लगती है।

अधिक चीनी खा लेना
ज्यादातर लोगों को मीठा बहुत पसंद होता है। ऐसे में वे भारी मात्रा में मीठी चीजें खाते हैं। मगर इसतरह अधिक मात्रा में चीनी का सेवन करने से दिमाग पर बुरा असर पड़ता है। इससे डायबिटीज होने के साथ मोटापा, स्किन संबंधी समस्याएं व अन्य सेहत से जुड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
अगर आपको भी हैं ये बुरी आदतें तो हो जाईये सावधान, हो सकता है ब्रेन डैमेज

कोई फिजिकल एक्टिविटी ना करना
घंटों एक जगह बैठे रहने से दिमाग सुस्त होने लगा है। इसके साथ ही भागदौड़ भरी जिंदगी के कारण तनाव होने के खतरा रहता है। इसके अलावा दिमाग के सही से विकास नहीं हो पाता है। ऐसे में जरूरी है कि आप रोजाना खुली हवा में 30 मिनट के लिए योगा या एक्सरसाइज करें। इससे आपका मन और दिमाग शांत होगा। दिमाग की कोशिकाएं स्वस्थ रहने से बेहद दिमागी विकास होने में मदद मिलेगी।

स्मोकिंग
हेल्थ एक्सपर्ट अनुसार, स्मोकिंग करने से ब्रेन संबंधी किसी बीमारी जैसे कि एल्जाइमर, डिमेंशिया के शिकार होने का खतरा रहता है। इसके अलावा सेहत संबंधी भी कई समस्याएं हो सकती है। ऐसे में हेल्दी रहने के लिए धूम्रपान ना करने में ही भलाई है।
अगर आपको भी हैं ये बुरी आदतें तो हो जाईये सावधान, हो सकता है ब्रेन डैमेज

नींद पूरी ना लेना
एक्सपर्ट अनुसार, रात को सोते समय हमारी बॉडी अंदर से रिपेयर होती है। दिमाग को बेहतर तरीके से काम करने में मदद मिलती है। इससे तनाव, डिप्रेशन कम हो सकता है। मगर इसके विपरीत नींद पूरी ना होने से व्यक्ति को दिनभर सुस्ती, थकान व कमजोरी छाई रहती है। ऐसे में उसे काम करने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके लिए दिमाग व दिल संबंधी बीमारियों की चपेट में आने का खतरा रहता है। ऐसे में हेल्दी रहने के लिए जरूरी है कि आप रात को 8-9 घंटे की नींद जरूर लें।
 

Post a Comment

From around the web