नोरोवायरस ,क्या कोविड-19 से ज़्यादा ख़तरनाक है, जानें इस बीमारी के बारे में पूरी जानकारी 

 
नोरोना

कोरोना वायरस महामारी के बीच, वायरस का एक अत्यधिक संक्रामक समूह, नोरोवायरस सुर्खियों में रहा है। इंग्लैंड में अब तक नोरोवायरस के लगभग 154 मामले सामने आ चुके हैं। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र के अनुसार, नोरोवायरस के लक्षणों में दस्त, उल्टी, मतली और पेट दर्द शामिल है नोरोवायरस अत्यधिक संक्रामक वायरस का एक समूह है जो उल्टी और दस्त का कारण बनता है। इसे विंटर वॉमिटिंग बग भी कहा जाता है। नोरोवायरस से संक्रमित लोग अरबों वायरस कणों को फैला सकते हैं, लेकिन उनमें से कुछ ही लोगों को बीमार कर सकते हैं। सीडीसी के मुताबिक, नोरोवायरस कोविड-19 की तुलना ज़्यादा ख़तरनाक बीमारी है।

नोरोना

ऐसा इसलिए क्योंकि यह बहुत तेज़ी से फैलता है।नोरोवायरस उस व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है, जो दूषित भोजन या पानी का सेवन करता है या फिर किसी दूषित सतह को छूता है और फिर वही दूषित हाथ मुंह के संपर्क में आ जाते हैं। संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने वाला व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है।

यह वायरस वैसे ही फैलता है जैसे बाकी वायरस मनुष्य के संपर्क में आते हैं।, नोरोवायरस कई तरह के होते हैं और अगर एक व्यक्ति किसी एक तरह के नोरोवायरस से संक्रमित होता है, तो उसे बाकी सभी तरह के नोरोवायरस से इम्यूनिटी नहीं मिलती। यानी एक व्यक्ति कई बार नोरोवायरस से संक्रमित हो सकता हैस्वच्छता का पालन करना इस वायरस को फैलने से रोकने का सबसे अच्छा तरीका है। टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद, दूषित सतह को छूने के बाद, खाना खाने से पहले, डायपर बदलने के बाद या फिर खाना बनाने से पहले हाथों को धोना ज़रूरी है।

Post a Comment

From around the web