India में अब तक देखे गए म्यूटेंट पर असरदार हैं हमारे टीके : विशेषज्ञ

 
s

भारत के शीर्ष दो कोविड-19 विशेषज्ञों, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी. के. पॉल और एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने कहा कि भारत में अब तक देखे गए म्यूटेंट पर हमारे टीके प्रभावी हैं। कोविड-19 टीकों के बारे में लोगों की विभिन्न शंकाओं को दूर करते हुए, इन विशेषज्ञों ने भारत में उपयोग किए जाने वाले दो टीकों (वैक्सीन) – सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के कोविशील्ड और भारत बायोटेक के कोवैक्सिन के बारे में लोगों की ओर से पूछे जाने वाले विभिन्न सवालों के जवाब दिए।

इन दो मेड इन इंडिया टीकों को इस साल आपातकालीन उपयोग के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) की मंजूरी मिली, जिसके बाद यहां 16 जनवरी से दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरूआत हुई।

पॉल और गुलेरिया दोनों ने सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहों को झूठी और निराधार करार दिया, जिनमें कहा जा रहा है कि टीके लेने के बाद हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो जाती है या टीके लेने के बाद लोग मर जाते हैं। इन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों और दूरदराज के ब्लॉकों में कुछ लोगों में इस प्रकार की गलत धारणा है।

लोगों द्वारा सामान्य तौर पर पूछे जाने वाले सवाल, जैसे अगर मुझे कोविड संक्रमण हो गया है, तो कितने दिनों के बाद मैं टीका लगवा सकता हूं?

इस पर डॉ. गुलेरिया ने कहा, नवीनतम दिशानिर्देशों में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि जिस व्यक्ति को कोविड-19 का संक्रमण हुआ है, वह ठीक होने के दिन से तीन महीने बाद टीका लगवा सकता है। ऐसा करने से शरीर को मजबूत रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने में मदद मिलेगी और टीके का असर बेहतर होगा।

यह पूछे जाने पर कि क्या टीका लेने के बाद रक्त का थक्का बनना आम बात है, गुलेरिया ने कहा, यह पहले भी देखा गया है कि सर्जरी के बाद रक्त का थक्का बनना भारतीय आबादी में अमेरिका और यूरोपीय आबादी की तुलना में कम होता है। वैक्सीन प्रेरित थ्रोम्बोसिस या थ्रोम्बोसाइटोपेनिया नाम का यह दुष्प्रभाव भारत में बहुत दुर्लभ है, जो यूरोप की तुलना में बहुत कम अनुपात में पाया जाता है। इसलिए इससे डरने की जरूरत नहीं है। इसके लिए उपचार भी उपलब्ध हैं, जिन्हें जल्दी निदान होने पर अपनाया जा सकता है।

इस सवाल का जवाब देते हुए डॉ. पॉल ने कहा, इस जटिलता के कुछ मामले सामने आए हैं, खासकर एस्ट्रा-जेनेका वैक्सीन के संबंध में। यह जटिलता यूरोप में हुई, जहां यह जोखिम उनकी जीवनशैली, शरीर और आनुवंशिक संरचना के कारण उनकी युवा आबादी में कुछ हद तक मौजूद पायी गई। लेकिन, मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमने भारत में इन आंकड़ों की व्यवस्थित रूप से जांच की है और पाया है कि रक्त के थक्के जमने की ऐसी घटनाएं यहां लगभग नगण्य हैं – इतनी नगण्य कि किसी को इसके बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। यूरोपीय देशों में, ये जटिलताएं हमारे देश की तुलना में लगभग 30 गुना अधिक पाई गई है।

क्या एलर्जी वाले लोगों को टीका लगाया जा सकता है?, इस पर प्रतिक्रिया देते हुए, पॉल ने कहा, अगर किसी को एलर्जी की गंभीर समस्या है, तो डॉक्टरी सलाह के बाद ही कोविड का टीका लगवाना चाहिए। हालांकि, अगर यह केवल मामूली एलर्जी – जैसे सामान्य सर्दी, त्वचा की एलर्जी आदि का सवाल है, तो टीका लेने में संकोच नहीं करना चाहिए।

इस पर डॉ. गुलेरिया ने कहा, एलर्जी की पहले से दवा लेने वालों को इन्हें रोकना नहीं चाहिए, टीका लगवाते समय नियमित रूप से दवा लेते रहना चाहिए। यह भी जानना महत्वपूर्ण है कि टीकाकरण के कारण उत्पन्न होने वाली एलर्जी के प्रबंधन के लिए सभी टीकाकरण स्थलों पर व्यवस्था की गई है। अत: हम सलाह देते हैं कि यदि आपको गंभीर एलर्जी हो, तो भी आप दवा लेते रहें और जाकर टीकाकरण लगवाएं।

–आईएएनएस

Post a Comment

From around the web