‘England के अस्पतालों में बहुत कम कोविड रोगियों को मिली 2 खुराकें’

 
s

इंग्लैंड के अस्पतालों में ‘बहुत कम’ कोविड रोगियों को वायरस के खिलाफ दो खुराकें मिली हैं, जिससे यह पता चलता है कि टीके सुरक्षा का हाई लेवल स्तर प्रदान करते हैं। इसकी जानकारी एक ब्रिटिश हेल्थ एसोसिएशन के प्रमुख ने दी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने रविवार को नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) प्रोवाइडर्स के प्रमुख क्रिस होप्सन के हवाले से कहा कि अस्पताल में ‘मुट्ठी भर’ रोगियों को टीकाकरण की दोनों खुराक मिली थी, लेकिन उनकी हालत कुछ अलग होती है।

उन्होंने कहा कि मरीज अब युवा हैं, जिसका मतलब है कि क्रिटिकल केयर की कम जरूरत थी।

होप्सन ने बीबीसी को बताया हालांकि, यह अविश्वसनीय है कि अस्पताल कितने व्यस्त हैं, क्योंकि वे गैर-कोविड बैकलॉग से भी निपटते हैं।

उन्होंने कहा कि अस्पताल से लोग पूरी तरह से स्वस्थ होकर जा रहे हैं।

नवीनतम सरकारी आंकड़ों के अनुसार, ब्रिटेन में अस्पतालों में 870 कोविड -19 मरीज हैं, जबकि जनवरी में यह संख्या 39,249 थी।

होप्सन ने कहा कि 21 जून को इंग्लैंड में कोरोनावायरस प्रतिबंधों में ढील देने के अंतिम चरण के लिए ‘ज्यादा सूचित बहस’ की जरूरत है।

इस बीच, कुछ ब्रिटिश विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि अगर देश में लॉकडाउन में और ढील दी गई तो ब्रिटेन में बी.1.6172 कोरोनावायरस संस्करण ‘गति पकड़ सकता है और एक बड़ी समस्या बन सकता है।’

इंग्लैंड में बी.1.6172 वैरिएंट के मामले एक सप्ताह में दोगुने होकर लगभग 7,000 हो गए हैं, जिससे यह चिंता पैदा हो गई है कि सरकार का लॉकडाउन रोडमैप पटरी से उतर जाएगा।

रोडमैप के 21 जून को हटाए जाने वाले सामाजिक संपर्क पर सभी कानूनी सीमाओं को देखने की उम्मीद है।

उम्मीद है कि लॉकडाउन में ढील देने पर अंतिम फैसला 14 जून तक नहीं किया जाएगा।

नवीनतम आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, ब्रिटेन में लगभग तीन-चौथाई वयस्कों को 3.9 करोड़ से ज्यादा लोगों को पहली कोरोनावायरस वैक्सीन की खुराक दी गई है।

न्रूूज सत्रोत आईएएनएस

Post a Comment

From around the web