Corona के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद के लिए 10 करोड़ रुपये दान देगी Vivo

 
s

स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी वीवो ने कोविड की दूसरी लहर के खिलाफ भारत की लड़ाई में अपना समर्थन देते हुए 10 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा की है। इससे पहले हाल ही में वीवो ने देश में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए 2 करोड़ रुपये के दान की घोषणा की थी।

 वीवोकेयर्स पहल के हिस्से के रूप में वीवो ने कोविड की इस विनाशकारी दूसरी लहर के दौरान जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए कई पहल की हैं। कंपनी कोविड राहत उपायों का समर्थन करने के लिए विभिन्न सरकारी अस्पतालों में वितरित किए जाने वाले 6 करोड़ रुपये के ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर्स दान करेगी।

वीवो इंडिया में ब्रांड रणनीति मामलों के निदेशक निपुण मारिया ने कहा कि हम मानवता के इतिहास में सबसे खराब संकटों में से एक का सामना कर रहे हैं, और हम सभी के लिए इन अभूतपूर्व समय में एक दूसरे का समर्थन करना महत्वपूर्ण है। वीवो अपने लोगों के लिए प्रतिबद्ध है और ये पहल समुदायों को हमारे समर्थन को बढ़ाने के लिए सिर्फ एक छोटा कदम है।

इससे पहले भी वीवो इंडिया ने देश में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए 2 करोड़ रुपये के दान की घोषणा की थी और तब निपुण मारिया ने कहा था कि हम सभी एक साथ मिलकर काम कर रहे हैं और हमें कोविड को हराने के लिए एक इकाई के रूप में लड़ना चाहिए। वीवो इस परीक्षा की घड़ी में समुदायों को समर्थन देने के लिए प्रतिबद्ध है।

कंपनी ने गुरुग्राम में कोविड से लड़ रहे रोगियों और उनके परिवारों के घर पर 1,00,000 मुफ्त पके भोजन के पैकेट वितरित करने के लिए इस्कॉन के साथ साझेदारी भी की है।

इसके अलावा, विश्व के सबसे बड़े मिड-डे मील कार्यक्रम प्रदाता, अक्षय पात्र फाउंडेशन के साथ मिलकर वीवो दिल्ली के एक सरकारी स्कूल के सभी 500 से अधिक छात्रों के लिए छह महीने के लिए हैप्पीनेस किट प्रदान करने में भी सहयोग करेगी।

छह महीने लंबी हैप्पीनेस परियोजना में खाद्य पदार्थों के माध्यम से पोषण, पुस्तकों और स्टेशनरी के माध्यम से शिक्षा और दैनिक आवश्यक वस्तुओं के माध्यम से स्वच्छता का समर्थन करेगी। इसने कार्डियो वेंटिलेटर मशीनों से लैस दो एम्बुलेंस दान करने का भी वादा किया है।

वीवो ने इससे पहले 2020 में महामारी से लड़ने में मदद करने के लिए राज्य और केंद्र सरकार की एजेंसियों को 9 लाख मास्क, 15,000 पीपीई सूट और 50,000 लीटर सैनिटाइजर दान के तौर पर दिया था।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

Post a Comment

From around the web