हरियाणा में केवल 2-3 प्रतिशत Vaccine की बर्बादी : अधिकारी

 
s

राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) राजीव अरोड़ा ने मंगलवार को कहा कि हरियाणा में वैक्सीन की बर्बादी छह फीसदी नहीं बल्कि दो-तीन फीसदी है। केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में जारी आंकड़ों में कहा गया है कि हरियाणा में कोविशील्ड के टीके का छह प्रतिशत और कोवैक्सिन का 10.2 प्रतिशत अपव्यय है।

राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने पाया कि राज्य और केंद्र के बीच एक डेटा बेमेल था। हमने डेटा बेमेल को ठीक किया और कोविशील्ड के लिए अपव्यय प्रतिशत छह प्रतिशत से घटकर 3.1 प्रतिशत और कोवैक्सिन का 10.2 प्रतिशत 2.4 प्रतिशत हो गया। इस प्रकार, औसत अपव्यय प्रतिशत दो-तीन प्रतिशत है।

अरोड़ा ने कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक (हरियाणा) प्रभजोत सिंह ने टीकाकरण दल के साथ उच्च वैक्सीन बर्बादी वाले जिलों की पहचान की है। वे हिसार, पलवल, नूंह, कैथल, रोहतक और भिवानी थे।

उन्होंने कहा कि राज्य में अब तक 53,72,311 टीकों की खुराक दी जा चुकी है। वैक्सीन प्रशासन पर सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले जिलों गुरुग्राम ने सबसे अधिक 6,34,610 वैक्सीन खुराक दी हैं, इसके बाद फरीदाबाद (5,00,600) और अंबाला (3,94,162) हैं।

कुल 2,07,892 स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की पहली खुराक दी गई है जबकि 1,33,828 को दूसरी खुराक दी गई है।

अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं में 1,64,609 को टीके की पहली खुराक दी गई है और 75,740 को दोनों खुराकें दी गई हैं।

60 वर्ष से ऊपर के लोगों और 45-60 वर्ष के आयु वर्ग के लोगों में, 32,70,712 लोगों को टीके की पहली खुराक दी गई और 7,74,105 को दोनों खुराक दी गईं।

18-44 वर्ष के आयु वर्ग में 43,88,638 व्यक्तियों को टीके की पहली खुराक और 9,83,673 को वैक्सीन की दूसरी खुराक दी गई।

–आईएएनएस

Post a Comment

From around the web