आप प्राणायाम से भी  ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ेस से बॉडी में ऑक्सीजन का लेवल बड़ा सकते है जाने कैसे 

 
योग

प्राणायाम को बॉडी में ऑक्सीजन का लेवल बढ़ाने के लिए सबसे बेहतरीन एक्सरसाइज़ माना जाता है लेकिन कुछ और भी ऐसी टेक्निक्स हैं 1950 के दशक में अस्थमा अटैक को रोकने और अन्य श्वसन समस्याओं का इलाज करने के लिए कुछ साइंटिस्ट ने बुटेको ब्रीदिंग का आविष्कार किया। उस समय, चिकित्सा समुदाय ने एक सांँस लेने की तकनीक का विरोध किया, जो दवा और अन्य पारंपरिक हस्तक्षेपों की मदद के बिना शारीरिक लक्षणों को कम कर सकता था। तब से, दुनियाभर के लोगों ने बुटेको को विशेष रूप से साँंस लेने में गले लगाया है क्योंकि यह प्राकृतिक और बहुत प्रभावी है। हज़ारों लोगों ने इस सिद्ध पद्धति को एकीकृत करके अस्थमा, स्लीप एपनिया और उच्च रक्तचाप से राहत पाई है, जो शरीर की ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर को अपनी दैनिक दिनचर्या में संतुलित करता है।

योग

 शांत, आरामदायक जगह पर सीधे बैठें और सांस लेने पर ध्यान दें।मुंह बंद रखें, फेफड़ों को भरने के लिए धीरे-धीरे नासिका के माध्यम से सांस लें।नथुने के माध्यम से साँंस छोड़ते हुए, धीरे-धीरे फेफड़ों से हवा को बाहर निकालना, जब तक आप साँंस लेने में मज़बूर महसूस न करें।दो-तीन या पांच बार इसे दोहराएं।पर्स्ड-लिप ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ आसान है और इसे कभी भी कहीं भी किया जा सकता है। यह व्यायाम आपके वायुमार्ग को अधिक समय तक खुला रखता है, जो फेफड़ों से वायु के प्रवाह को सुगम बनाता है। यह फेफड़ों के लिए कार्य करना आसान बनाता है और ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड के आदान-प्रदान में सुधार करता है।

यह व्यायाम उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है, जो फिजि़कली कम ऐक्टिव रहते हैं। वे अकसर अपनी सांस की मांसपेशियों का उपयोग नहीं करते।इसे करने का एक गुनगुनाहट भी आपके फेफड़ों की क्षमता को बढ़ा सकती है। यह शरीर के अंदर की गंदी हवा को फेफड़ों से बाहर निकालता है ताकि ताज़ी हवा आपके अंदर प्रवेश कर सके। वहीं गीत गुनगुनाने से तनाव भी कम होता है और रोगी को स्वस्थ बने रखने में मदद कर सकता है।

Post a Comment

From around the web