कभी नहीं बजते इस देश की घडी में 12, जानिए क्या है इसके पिछे की कहानी और मान्यताऐं

 
इस देश की अनोखी घड़ी में नहीं बजते 12, क्या है पौराणिक मान्यता

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। आप भी हैरान हो जाएंगे अगर आपकी घड़ी में 12 न बजे तो, एक ऐसी अजीब घड़ी दुनिया में है 12 जिसमें बजते ही नहीं है। 12 अंक इस घड़ी में नहीं है और 11 बजे के बाद इसमें सीधे 1 बजता है। बेहद ही प्रचलित वजह इसके पीछे है, आप भी हैरान हो जाएंगे इससे जानकर, आइए जानते है क्या है इसके पीछे की वजह…

स्विट्जरलैंड का सोलोथर्न में 12 नहीं बजते।  11 बजने के बाद यहां सीधा 1 बज जाता है। इस घड़ी में घंटे में खास बात ये है कि 12 की जगह सिर्फ 11 अंक हैं। यहां पर साथ ही कई घड़ियां हैं, जिनमें 12 नहीं बजते। इस शहर में चर्च की संख्या 11 ही है। इसके अलावा ऐतिहासिक झरने और टावर भी 11 नंबर के हैं। जिसकी वजह से सोलोथर्न में 11 नंबर खास माना जाता है। इस शहर के लोग 11 नंबर को काफी पसंद करते हैं। उनका डिजाइन 11 नंबर के आस-पास ही घूमता रहता है। 

इस देश की अनोखी घड़ी में नहीं बजते 12, क्या है पौराणिक मान्यता

क्या है सालों पुरानी मान्यता
यहां के लोगों का मानना है कि एल्फ के पास शक्तियां हैं। इसलिए यहां के लोग 11 नंबर को शुभ मानते हैं। एल्फ के आने से वहां के लोगों के जीवन में खुशहाली आने लगी, एल्फ का किस्सा जर्मनी की पौराणिक कहानियों से जुड़ा हुआ है। प्राचीन मान्यता की वजह से 11 नंबर को महत्व देते हैं। ये मान्यता कई सालों से चल रही है। जर्मनी की पौराणिक कहानियों में एल्फ का जिक्र है। जर्मनी की भाषा में एल्फ का मतलब 11 होता है। इसलिए सोलोथर्न के लोगों ने एल्फ को 11 नंबर से जोड़ दिया और तब से यहां के लोगों ने 11 नंबर को बहुत ज्यादा महत्व देना शुरू कर दिया।

यहां के लोग इस नंबर को अपना बना लेते है। एक तोहफा जो बर्थडे पर बहुत अहम माना जाता है। वो यहां के लोगों के लिए कितना खास हो सकता है। 11 नंबर खास होने की वजह से धूमधाम से मनाया जाता है। दिलचस्प बात ये है कि इस मौके पर दिए जाने वाले गिफ्ट भी 11 नंबर से जुड़े हुए दिए जाते है। 

Post a Comment

From around the web