15 August 2022 1947, जानें ऐसा क्या हुआ था, जो इतिहास के पन्नों में हो गया दर्ज

 
15 अगस्त से जुड़ी 10 रोचक बातें, जो शायद ही जानते होंगे आप

ल़ाईफस्टाइल न्यूज डेस्क।। 15 अगस्त 1947, यह भारत के इतिहास का सबसे खूबसूरत दिन है जब भारत को 200 साल के ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी। दरअसल, ये वो दिन हैं जो हमें हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान और तपस्या की याद दिलाते हैं। इस दिन, भारत के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने दिल्ली में लाल किले के लाहौरी गेट पर भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराया था। आपको बता दें कि इस दिन कई ऐसी बातें हुईं जो इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गईं। भारत के पहले प्रधान मंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का पहला भाषण, जो उन्होंने 14-15 अगस्त की मध्यरात्रि में वायसराय लॉज (वर्तमान राष्ट्रपति) भवन से दिया था।

अपने पहले भाषण के दौरान राष्ट्र को संबोधित करते हुए नेहरू ने कहा कि कई साल पहले हमने भाग्य बदलने की कोशिश की थी और अब समय आ गया है कि हम अपने संकल्प से मुक्त हो जाएं। पूरी तरह से नहीं लेकिन यह महत्वपूर्ण है। आज रात 12 बजे जब पूरी दुनिया सोएगी, भारत एक नए स्वतंत्र जीवन की शुरुआत करेगा। नेहरू के भाषण ने भारत के लोगों के लिए आशा की एक नई किरण जगाई। भले ही देश भौगोलिक और आंतरिक रूप से सांप्रदायिक आधार पर विभाजित था, नेहरू के भाषण ने साहस को प्रेरित किया।

देश मे हर जगह चल रहीं स्वतंत्रता दिवस की तैयारियां, भारत के अलावा ये देश भी  हुए थे आजाद, आइये जानते है कुछ ख़ास इतिहास

15 अगस्त 1947 को बिस्मिल्लाह खां ने आजादी की पहली सुबह शहनाई बजाकर भव्य स्वागत किया। गौरतलब है कि जब भारत आजाद होने वाला था तब पंडित जवाहरलाल नेहरू चाहते थे कि इस मौके पर बिस्मिल्लाह खां को दिल्ली बुलाया जाए। इतिहासकारों के अनुसार, तत्कालीन संयुक्त सचिव बदरुद्दीन तैयबजी, जो स्वतंत्रता दिवस समारोह की व्यवस्था देख रहे थे, को खान साहब को खोजने और उन्हें दिल्ली लाने का काम सौंपा गया था। नेहरू के निमंत्रण पर खान साहब दिल्ली आए। बिस्मिल्लाह खान और उनके साथियों ने राग बजाकर सूरज की पहली किरणों का स्वागत किया। इसके बाद पंडित नेहरू ने झंडा फहराया।

भारत आज अपनी 75वीं स्वतंत्रता वर्षगांठ मनाने के लिए कमर कस रहा है। उत्सव हर जगह हैं। इस आधुनिक युग में हर कोई अपने-अपने तरीके से जश्न मनाने की तैयारी कर रहा है। समारोह में भाग लेने के लिए हर साल हजारों लोग लाल किले पर इकट्ठा होते हैं। लेकिन आज से ठीक 75 साल पहले, जब भारत अभी भी आधुनिकता के दौर से दूर था, हजारों की संख्या में लोग दिल्ली के लाल किले पर जश्न में शामिल होने के लिए जमा हुए थे।

Post a Comment

From around the web