50 हजार आत्माएं रहती हैं उत्तराखंड की इस खदान में, लोगों को सुनाई देती है डरावनी चीज़े और आवाजें

 
50 हजार आत्माएं रहती हैं उत्तराखंड की इस खदान में, लोगों को सुनाई देती है डरावनी चीज़े और आवाजें

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। उत्तराखंड अपनी खूबसूरती के लिए दुनियाभर में जाना जाता है। पर्यटक अपने दैनिक जीवन से ऊबने के बाद शांति और प्रकृति के बीच रहने के लिए उत्तराखंड आते हैं, साथ ही साहसिक प्रेमी यहां ट्रेकिंग, हाइकिंग, वाटर राफ्टिंग जैसी कई मजेदार गतिविधियां करते हैं। लेकिन पहाड़ों की इस खूबसूरती के बीच एक जगह ऐसी भी है, जहां लोग जाएं तो बात करना तक पसंद नहीं करते। अगर आपको इस जगह के बारे में पता चलता है तो आप डर सकते हैं, क्योंकि इसे उत्तराखंड की सबसे डरावनी जगह माना जाता है।

लंबी देहर खदान की कहानी

हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के मसूरी से कुछ किलोमीटर दूर लंबी देहर खदान की। कहा जाता है कि यहां के कुछ किलोमीटर के दायरे में लोग दहशत और भय का अनुभव करते हैं। इस खदान से जुड़ी कई डरावनी और डरावनी कहानियां हैं, जो लोगों को इसकी ओर एक कदम बढ़ाने से रोकती हैं। स्थानीय लोग अक्सर नए पर्यटकों को यहां न आने और लोकप्रिय कहानियां सुनाने की चेतावनी देते हैं। आपको बता दें कि इस जगह पर कई हॉरर फिल्मों और सीरियल की शूटिंग की जा चुकी है। अगर आप वहां किसी से लंबे शरीर का रास्ता पूछेंगे तो वे डर जाएंगे और आपको वहां जाने से मना कर देंगे।

इस भीषण हादसे ने बना दी खदान को भूतिया

कहानी साल 1990 की है। कहा जाता है कि उस समय यहां खनन चल रहा था और खदान के अंदर हजारों मजदूर काम कर रहे थे। लेकिन करीब 50 हजार मजदूर खदान में दब गए और गलत खनन प्रक्रिया के चलते उनकी मौत हो गई। उसी समय, इस खदान के पास के श्रमिकों को फेफड़ों की बीमारी हो गई और खांसी से उनकी मृत्यु हो गई। यह भी कहा जाता है कि सभी मजदूरों को खून की उल्टी हो रही थी। हजारों मौतों के बाद लॉन्ग देहर माइंस मसूरी की सबसे खतरनाक जगह बन गई। वहां जाने वाले लोग आज भी भयानक हादसे को महसूस करते हैं। कई लोगों ने कहा है कि वहां का माहौल इतना नकारात्मक लगता है कि जीने का कोई मकसद ही नहीं बचा है.

लांग देहर एक चूना पत्थर की खदान थी

स्थानीय लोगों का कहना है कि लांबा देहर में चूना पत्थर की खदानें थीं। अंग्रेजों के जमाने से चली आ रही इन खदानों को साल 1996 में सील कर दिया गया था।

हर साल होने लगे बड़े हादसे

कहा जाता है कि जो लोग इन खदानों के पास जाते हैं उन्हें अक्सर चीख-पुकार सुनाई देती है। कभी कोई बचाव के लिए चिल्लाता है तो कभी मदद की पुकार सुनाई देती है। लेकिन आसपास कोई नजर नहीं आता। स्थानीय लोगों का कहना है कि उस जगह के पास हर साल हादसों की संख्या बढ़ने लगी थी। यही वजह थी कि खदानें बंद थीं। यहां केवल 20 लोग रहते हैं और उनके अनुसार यह जगह आत्माओं का वास है, इसलिए वे चिल्लाते हैं, चिल्लाते हैं या रोते हैं। लोगों का कहना था कि इस खदान के सामने से गुजरने वाले की या तो मौत हो जाती है या कोई भयानक हादसा हो जाता है.

Post a Comment

From around the web