30 साल में एक बार इस जगह पर अंडे देती है अनोखी चट्टान, चुरा कर ले भागते हैं लोग

 
30 साल में एक बार इस जगह पर अंडे देती है अनोखी चट्टान, चुरा कर ले भागते हैं लोग

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। दुनिया में कई ऐसी अनोखी चीजें हैं जिनका जवाब किसी के पास नहीं है। प्रकृति इन चीजों को बनाती है और लोग इन्हें देखकर चकित रह जाते हैं। इन हरकतों के पीछे का कारण कोई नहीं जानता। वैज्ञानिक भी कई सालों से इसका जवाब खोजने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। अनुमान के आधार पर ही इन रहस्यों के सुलझने का दावा किया जाता है। ऐसी ही एक रहस्यमयी चट्टान चीन के गिझोऊ प्रांत में स्थित है। यह चट्टान हर तीस साल में अपने अंडे देती है।

हां, आपने उसे सही पढ़ा है। अब तक आपने मुर्गियों और बत्तखों के अंडे देने के बारे में सुना होगा। लेकिन चीन की यह चट्टान अंडे देती है। वो भी हर तीस साल में एक बार। अंडे को तीस साल तक अंदर रखकर इस चट्टान को उबाला जाता है। इसके बाद जब यह तीस साल का हो जाता है तो अंडा अपने आप चट्टान से अलग हो जाता है। यह चट्टान करीब 19 फुट ऊंची और 65 फुट ऊंची है। अंडे चट्टान के अंदर पैदा होते हैं और तीस साल में अपने आप पैदा हो जाते हैं।

काले अंडे
चीन की इस रहस्यमयी चट्टान को चान दन या के नाम से जाना जाता है। यह पूरी चट्टान काली है। ऐसे में चट्टान जो अंडे देती है उसका रंग भी काला होता है। चट्टानें अंडे के आकार की, बाहर से चिकनी होती हैं। वे चट्टान की सतह से अपने आप उभरने लगते हैं। यह चट्टान पूरे तीस साल तक चलती है और जब यह पक जाती है तो इसे अपने आप बाहर फेंक देती है। वैज्ञानिक भी इस पूरी प्रक्रिया को समझने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई सफल नहीं हुआ है।

लेकर भाग जाते हैं लोग
चट्टान का नाम चान दन या है, जिसका हिंदी में अर्थ होता है - अंडा देने वाला पत्थर। अंडे से निकले हुए अंडे को लोग खुशी का प्रतीक मानते हैं। इस वजह से जैसे ही अंडा जमीन पर गिरता है तो लोग उसे लेकर भाग जाते हैं. ये अंडे काले होते हैं और इनकी सतह ठंडी होती है। अंडे के इस रहस्य को सुलझाने के लिए वैज्ञानिक सालों से काम कर रहे हैं। भूवैज्ञानिकों के अनुसार यह चट्टान लगभग 500 मिलियन वर्ष पुरानी है। वर्षों से, इस चट्टान ने सभी प्रकार के तापमानों को झेला है लेकिन एक ही चीज़ नहीं बदली है। यह चट्टान पर अंडे देने की प्रवृत्ति है।

Post a Comment

From around the web