आखिर कितना पुराना है धरती का इतिहास, जानिए वैज्ञानिकों ने कैसे लगाया सालों बाद रहस्य का पता

 
आखिर कितना पुराना है धरती का इतिहास, जानिए वैज्ञानिकों ने कैसे लगाया सालों बाद रहस्य का पता

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। आप अपनी जन्मतिथि, अपने पिता की जन्मतिथि और यहां तक ​​कि अपने दादा की तारीख भी जान सकते हैं। यह भी संभव है कि आपके पूर्वज एक वंश वृक्ष बनाने में विश्वास रखते थे, जिसके माध्यम से आप अपने परिवार के 7-8 पुत्रों की जन्मतिथि जान सकते हैं। लेकिन क्या आप पृथ्वी की जन्मतिथि के बारे में जानते हैं? क्या आपने कभी सोचा है कि पृथ्वी का जन्मदिन कब है, कितने साल पहले बना था? यद्यपि वैज्ञानिकों ने पृथ्वी की आयु के बारे में बहुत कुछ खोजा है, लेकिन लाखों वर्षों के बाद लोगों को कैसे पता चलता है कि वास्तव में पृथ्वी का निर्माण कब हुआ था?

हाउ स्टफ वर्क्स वेबसाइट की एक रिपोर्ट के मुताबिक, सदियों से लोग पृथ्वी की वास्तविक उम्र का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। सबसे लोकप्रिय सिद्धांत के अनुसार, अरबों में पृथ्वी की आयु 450 मिलियन वर्ष है, जिसमें 50 मिलियन वर्ष ऊपर और नीचे गिने जाते हैं। यह अनुमान 1950 के दशक में पहुंचा था, जिसके बाद इसे पृथ्वी की सही उम्र माना जाता है। आइए अब जानते हैं कि इतने करोड़ वर्षों के बाद पृथ्वी की आयु का अनुमान कैसे लगाया जाता है।

आखिर कितना पुराना है धरती का इतिहास, जानिए वैज्ञानिकों ने कैसे लगाया सालों बाद रहस्य का पता

कई वैज्ञानिकों ने अपने-अपने अनुमान लगाए
रिपोर्ट के अनुसार, ग्रीक दार्शनिक अरस्तू ने परिकल्पना की थी कि समय का न तो आदि है और न ही अंत। ऐसी अवस्था में उन्होंने कहा कि पृथ्वी कई वर्ष पुरानी थी। लेकिन प्राचीन भारत के विद्वानों ने अपने ज्ञान से उस काल में बिग बैंग जैसी घटना का अनुमान लगाकर पृथ्वी की आयु 190 मिलियन वर्ष आंकी। मध्य युग में, ईसाइयों ने बाइबिल में पृथ्वी की आयु खोजने की कोशिश की और तब वे केवल 5 हजार वर्ष से 7 हजार वर्ष तक की आयु का अनुमान लगा सके। 1700 से 1800 के बीच कई वैज्ञानिकों ने तरह-तरह की भविष्यवाणियां कीं। कुछ ने इसका अनुमान पृथ्वी के ठंडा होने के आधार पर लगाया, तो कुछ ने अवसादन के आधार पर उम्र का अनुमान लगाया।

यह शख्स जानता था धरती की उम्र
सबसे सटीक अनुमान 20वीं सदी की शुरुआत में लगाया जाने लगा जब रेडियोमेट्रिक डेटिंग शुरू की गई। इस पद्धति का उपयोग करते हुए, वैज्ञानिक पत्थर द्वारा उत्सर्जित रेडियोधर्मी ऊर्जा का पता लगाते हैं, जो पत्थर की उम्र को इंगित करता है। 1953 में, क्लेयर पैटरसन ने सदियों पहले आकाश से गिरे उल्कापिंडों की जांच की, जिससे उन्होंने पृथ्वी की आयु 450 मिलियन वर्ष होने का अनुमान लगाया।

Post a Comment

From around the web