जिस रोटी को खाकर हर कोई रोजाना भरता है पेट आखिर वो आई कहां से, कोई कहता है फारस की देन तो कोई पूर्वी अफ्रीका की सौगात

 
जिस रोटी को खाकर हर कोई रोजाना भरता है पेट आखिर वो आई कहां से, कोई कहता है फारस की देन तो कोई पूर्वी अफ्रीका की सौगात

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। रोटली जिसे कई जगह फुलका कहा जाता है, कुछ जगहों पर चपाती और कुछ शहरों में अलग-अलग नाम। वैसे तो रोटी भारतीय खाने का सबसे जरूरी हिस्सा है, खासकर उत्तर भारत में जहां गेहूं का सबसे ज्यादा उत्पादन होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इतने उत्साह के साथ आप जो रोटी खाते हैं वह आपकी थाली में कैसे पहुंचती है? मतलब इस रोटी की उत्पत्ति कैसे, कहां और कब हुई? अगर आपको इस सवाल का जवाब नहीं पता है तो आज हम आपको इस ब्रेड की उत्पत्ति के बारे में बताएंगे और साथ ही उन देशों के बारे में भी बताएंगे जहां इसकी शुरुआत हुई थी।

हड़प्पा संस्कृति में साक्ष्य मिलते हैं

रोटली की उत्पत्ति भारत के बाहर कितने ही सबूत और रिपोर्ट क्यों न हो, ऐतिहासिक तथ्य बताते हैं कि रोटली का भारतीयों से पुराना नाता रहा है। उनकी कहानी 3300-1700 ईसा पूर्व की है। इसे हड़प्पा संस्कृति में भी सुना जाता है। उस दौरान लोग गेहूं, बाजरा, जौ उगा रहे थे।

जिस रोटी को खाकर हर कोई रोजाना भरता है पेट आखिर वो आई कहां से, कोई कहता है फारस की देन तो कोई पूर्वी अफ्रीका की सौगात

मुगल बादशाह को भी रोटी पसंद थी

अबुल-फ़ज़ल ने अपने 16वीं शताब्दी के दस्तावेज़ 'ऐन-ए-अकबरी' में उल्लेख किया है कि रोटली मुगल सम्राट अकबर के पसंदीदा खाद्य पदार्थों में से एक थी। कहा जाता है कि अकबर को रोटी इतनी पसंद थी कि वह उसे घी और चीनी के साथ खाता था। न केवल अकबर बल्कि औरंगजेब को भी रोटी बहुत पसंद थी। दिलचस्प बात यह है कि 1857 से पहले स्वतंत्रता संग्राम के दौरान स्वतंत्रता सेनानियों ने रोटी खाई थी।

अन्य देशों ने रोटी को कैसे अपनाया?

रास्ते में सैलानी अलग-अलग तरह से रोटी बनाकर घूमने चले गए। पेट भरने के लिए ये खाना उनके लिए सबसे आसान और सबसे पौष्टिक खाना बन गया. अन्य देशों में, रोटी इतनी महत्वपूर्ण थी कि जब अंग्रेज खाने के लिए बैठते थे, तो उन्हें चावल के बजाय चपाती की आवश्यकता होती थी। जैसे ही भारतीय नागरिक संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन में बस गए, यह रोटी चाल उनके साथ बस गई। इस रेसिपी को youtube से बनाकर सभी ने सीखना शुरू कर दिया है. औरंगजेब के समय यह रोटी एक हाथ की थी। अब इस ब्रेड का साइज बढ़ गया है। कुछ देशों में इसे रोल के रूप में खाया जाता है जबकि अन्य देशों में इसे समर्थन के रूप में दिया जाता है।

जिस रोटी को खाकर हर कोई रोजाना भरता है पेट आखिर वो आई कहां से, कोई कहता है फारस की देन तो कोई पूर्वी अफ्रीका की सौगात

यूएस और यूके में दर्शनीय स्थल

अगर आप अमेरिका घूमने का प्लान कर रहे हैं तो न्यूयॉर्क, सैन फ्रांसिस्को, ग्रैंड कैन्यन, लास वेगास, वैकिकि, वाशिंगटन डीसी जैसी जगहों पर घूमने का प्लान बना सकते हैं। इसके अलावा, यदि आप यहां के एक भारतीय रेस्तरां में उसी देसी ब्रेड का आनंद लेना चाहते हैं, तो आप यहां के कुछ प्रसिद्ध अड्डा, कोच्चि भारतीय व्यंजन, बदमाश रेस्तरां, स्पाइस रूम, बॉलीवुड थिएटर में जा सकते हैं।

Post a Comment

From around the web