क्या आप जानते है मृत्यु के बाद जिंदा नहीं रहती है इंसान की आत्मा, हैरान करने वाला वैज्ञानिकों ने किया दावा 

 
 क्या आप जानते है मृत्यु के बाद जिंदा नहीं रहती है इंसान की आत्मा, हैरान करने वाला वैज्ञानिकों ने किया दावा

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।।  कोई भी चीज उत्पन्न होती है तो एक समय के बाद दुनिया में उसका नष्ट होना भी तय है। मनुष्य जन्म लेता है उसकी मृत्यु का समय भी जिस तरह से निश्चित हो जाता है। हालांकि, दुनिया में अलग-अलग तरह की धारणाएं और मत जीवन और मृत्यु को लेकर सुनने को मिलते हैं। दुनिया के हर धर्म में भी मृत्यु के बाद की स्थिति को अलग-अलग तरीकों से समझाया गया है। जहां धार्मिक मान्यताएं कहती हैं कि मरने के बाद इंसान का केवल शरीर मरता है, आत्मा कभी नहीं मरती है। आध्यात्मिक गुरुओं और वैज्ञानिकों में जीवन और मृत्यु को लेकर हमेशा से ही मतभेद देखने को मिलते हैं। वहीं किसी इंसान के मृत्यु के बाद विज्ञान आत्मा के अस्तित्व को नहीं मानता है। एक ब्रह्माण्ड वैज्ञानिक ने ऐसे में जीवन और मृत्यु के संबंध को लेकर एक ऐसा दावा किया है जिसे जानने के बाद आपको काफी हैरानी होगी। आइए जानते हैं कि ब्रह्माण्ड वैज्ञानिक का क्या कहना है.........

प्रोफेसर कैरोल ने अपने जीवन में ज्यादातर समय भौतिकशास्त्र के अध्ययन में ही बिताया है। जीवन और मृत्यु को लेकर कॉस्मोलजिस्ट डॉक्टर सीन कैरोल ने एक हैरान करने वाला दावा किया है। प्रोफेसर अपने अध्ययन के आधार पर बताते है कि यदि किसी इंसान की मृत्यु हो जाती है, ऐसे में उसकी चेतना इस ब्रह्मांड में नहीं रह सकती है। कैरोल के अनुसार, अगर सब कुछ विज्ञान के नियमों के अनुसार होता है तो भौतिकशास्त्र में ऐसा मुमकिन ही नहीं है कि इंसान की मौत के बाद कोई जीवन संभव हो। 

क्या आप जानते है मृत्यु के बाद जिंदा नहीं रहती है इंसान की आत्मा, हैरान करने वाला वैज्ञानिकों ने किया दावा 

अब यदि हम विज्ञान की शाखा भौतिकशास्त्र के नियमों के आधार पर जीवन को समझें तो ऐसा कोई भी रास्ता नहीं है जो मरने के बाद हमारे दिमाग में मौजूद जानकारी को बनाए रखे। Scientific American में डॉक्टर कैरोल लिखते हैं, धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा दावा किया जाता है कि इंसान की मृत्यु के बाद आत्मा किसी न किसी रूप में इस परिवेश में मौजूद रहती है। 

ऐसे में प्रोफेसर कैरोल का ये दावा विवाद खड़ा करने वाला है। दुनिया के हर धर्म किसी न किसी रूप में आत्मा के होने का संकेत करते हैं। प्रोफेसर कैरोल का कहना है कि वो ईश्वर को न मानने के लिए नहीं कहते हैं, लेकिन विज्ञान का इस मुद्दे पर अपना एक अलग तर्क है। अब चूंकि धार्मिक मान्यताओं की माने तो आत्मा को लेकर धर्म की विज्ञान से एक दम उलट राय है। धर्म में आत्मा को अजर-अमर माना गया है। 

Post a Comment

From around the web