Fire Waterfall: 1560 फीट ऊंचे पहाड़ से बहता है आग का झरना, खौफनाक मंजर देख छूट जाते है पसीने जानिए क्या है इसके पीछे का रहस्य

 
Fire Waterfall: 1560 फीट ऊंचे पहाड़ से बहता है आग का झरना, खौफनाक मंजर देख छूट जाते है पसीने जानिए क्या है इसके पीछे का रहस्य

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।।  दुनियाभर में कई झरने हैं जो आप सभी ने देखे ही होंगे लेकिन आज हम एक ऐसे झरने के फोटोज लाए हैं कि देखने के बाद आपके होश उड़ जाएंगे. जी हाँ, दरअसल इस झरने में से पानी नहीं गिरता बल्कि आग गिरती है. जी हाँ, आप खुद देख सकते हैं इस झरने से आग गिर रही है. वैसे अगर आपको ऐसा लग रहा होगा कि हम झूठ बोल रहे हैं तो आप इस जगह पर जा सकते हैं. जी हाँ, वैसे तो आपने हमेशा पानी वाले ही झरने देखे होंगे, लेकिन क्या कभी ऐसा झरना देखा है जिससे आग गिरती हो? नहीं ना.

अब आज हम आपको एक ऐसे झरने के बारे में बताने जा रहे हैं जहाँ से आग निकलती है. यह झरना 1560 फीट ऊंचे पहाड़ से गिरता है और इसे देखने दूर दूर से लोग आते हैं. यह कैलिफोर्निया के योसेमिटी नैशनल पार्क में है और यह 1560 फीट ऊंचे कैप्टन माउंटेन से गिरता है. इसी के साथ इसे फायरफॉल भी कहा जाता है, जिसका मतलब होता है आग का झरना. दूर-दूर से लोग इस झरने का नजारा देखने आते हैं और इसकी तस्वीरें क्लिक करके अपने साथ ले जाते हैं. वहीं इस झरने में फरवरी के आखिरी हफ्ते में अलग ही नजारा देखने को मिलता है. वैसे आपको बता दें कि यह आग नहीं है बल्कि पानी ही है.

1560 फीट ऊंचे पहाड़ से गिरता है झरना

यह झरना कैलिफोर्निया के योसेमाइट नेशनल पार्क में है। यह झरना 1560 फीट ऊंचे पहाड़ से गिरता है। इसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यह अद्भुत जलप्रपात कैप्टन माउंटेन से गिरता है। इस अद्भुत जलप्रपात को फायरफॉल भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है आग का झरना। इस झरने का नजारा देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। इस अद्भुत नजारे को लोग अपने कैमरे में कैद कर लेते हैं।

Fire Waterfall: 1560 फीट ऊंचे पहाड़ से बहता है आग का झरना, खौफनाक मंजर देख छूट जाते है पसीने जानिए क्या है इसके पीछे का रहस्य

एक अलग ही नजारा देखने को मिलता है फरवरी में

आपको बता दें कि फरवरी के आखिरी हफ्ते में इस झरने में एक अलग ही नजारा देखने को मिलता है। जो कोई भी इस झरने को देखता है वह अवाक रह जाता है और इसकी कुछ तस्वीरें लेने में देर नहीं करता। यह बहुत सुंदर दिखता है। हर साल फरवरी के अंत में इस झरने से गिरने वाला पानी आग की तरह दिखता है।


ये है आग का राज

आपको बता दें कि इस झरने से गिरने वाला पानी आग की तरह दिखता है लेकिन यह आग नहीं बल्कि पानी है। दरअसल, सूर्यास्त के आसपास झरनों का रंग कुछ इस तरह बदलने लगता है। उसी समय पहाड़ी के दूसरी ओर सूर्यास्त होता है, जिसका अर्थ है कि इसका प्रकाश पानी पर बिखरा हुआ है और यह पानी में ऐसा प्रतीत होता है जैसे कि यह आग का फव्वारा हो।

Post a Comment

From around the web