इंसान को अमर करने वाला मिल गया तरीका, मछुआरे को मिली रहस्यमयी 'जलपरी की बॉडी'

 
 इंसान को अमर करने वाला मिल गया तरीका, मछुआरे को मिली रहस्यमयी 'जलपरी की बॉडी'

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।।  भूत-प्रेत, जलपरी और एलियन के बारे में खबरें आज के इस आधुनिक दौर में भी सामने निकलकर आती रहती हैं। जिस पर यकीन करना कभी-कभी ऐसा सुनने को मिलता है मुश्किल हो जाता है। इस बात के कई सबूत लोगों को मिले हैं, लेकिन संदेह की स्थिति इस पर बनी रहती है। दुनिया में जलपरी हैं कहा जाता है कि , लेकिन अभी तक इनके होने के कोई सबूत नहीं मिले हैं। हालांकि हमें सोच में डाल देते हैं सालों पहले मिले अवेशष कि क्या सच में जलपरी होती हैं? अब एक ऐसा ही मामला सामने आया है। 

सैकड़ों साल पहले मिली थी लाश

मछुआरे द्वारा पकड़ा गया जीव 12 इंच का था जिसे असाकुची के एक मंदिर में रखा गया है। इस जीव की ममी जलपरी जैसा दिखती है। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एक मछुआरे ने 1736 और 1741 के बीच एक रहस्यमयी जीव को जापानी द्वीप शिकोकू से पकड़ा था। वैज्ञानिक इसकी वास्तविक प्रकृति के बारे में जानने के लिए जांच करेंगे। इसके बारे में कहा जा रहा है कि इसके मांस को खाने से इंसान अमर हो जाएगा।  इसके अलावा इसका हंसता हुआ चेहरा, दांत, दो हाथ, सिर और भौंह पर बाल हैं। इस रहस्यमयी जीव का निचला हिस्सा मछली की तरह दिखता है। निचले हिस्से को छोड़ दिया जाए, तो बाकी हिस्सा एक इंसान की तरह नजर आता है।

इंसान को अमर करने वाला मिल गया तरीका, मछुआरे को मिली रहस्यमयी 'जलपरी की बॉडी'

जलपरी ममी की जाएगी जांच
इस प्रोजेक्ट के साथ ओकायामा फॉकलोर सोसायटी के हिरोशी किनोशिता जुड़े हुए हैं। उनका कहना है कि इस अजीबोगरीब जीव का धार्मिक महत्व भी हो सकता है। कुराशिकी यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड द आर्ट्स के शोधकर्ता इस ममी की जांच करेंगे। उन्होंने इस रहस्यों की जांच के लिए ममी को सीटी स्कैनिंग करने के लिए लिया है। 
 
मांस खाने से सैकड़ों साल जिंदा रही महिला

जापान के कई इलाकों में माना जाता है कि एक महिला ने गलती से एक जलपरी का मांस खा लिया था जिसके बाद वह 800 सालों तक जिदा रही। हिरोशी ने बताया है कि जापान में माना जाता है कि इंसान की मत्स्यांगना (जलपरी) का मांस खाने से कभी मौत नहीं होती है और वह अमर हो जाता है। कई लोगों का मानना है कि कोई इंसान वायरस का शिकार हो गया होगा जिसके बाद उसकी ऐसी हालत हो गई होगी। जहां पर यह रहस्यमयी जलपरी पाई गाई थी वहीं मंदिर के पास इससे संरक्षित कर रखा गया है। 

Post a Comment

From around the web