देश की इस जगह पर लोग हड्डी टूटने पर अस्पताल नहीं जाते है मंदिर, यहां ऐसे होता है फ्री इलाज

 
देश की इस जगह पर लोग हड्डी टूटने पर अस्पताल नहीं जाते है मंदिर, यहां ऐसे होता है फ्री इलाज

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। मध्य प्रदेश के कटनी से महज 30 किलोमीटर दूर मुहास गांव में बैठे हनुमानजी को अस्थि रोग विशेषज्ञ कहें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। हड्डी के रोग, फ्रैक्चर आदि से पीड़ित मरीजों की यहां वैसी ही कतार होती है, जैसी किसी आर्थोपेडिक सर्जन या विशेषज्ञ (ऑर्थोपेडिक स्पेशलिस्ट) की होती है। यहां किसी बड़े डॉक्टर के क्लिनिक से कई गुना ज्यादा भीड़ हर दिन रहती है। शनिवार और मंगलवार को विशाल परिसर में पांव रखने तक की जगह नहीं होती।

यह नजारा रहता है
हनुमान मंदिर का नित्य दर्शन निराला है। कुछ मरीज को स्ट्रेचर पर लाते हैं, जबकि अन्य उसे अपनी पीठ पर या एम्बुलेंस में ले जाते हैं। किसी का हाथ टूटा हुआ है, कोई पैर में फ्रैक्चर या शरीर में कहीं और होने के कारण रोता हुआ नजर आ रहा है. सबके मन में एक ही आशा है कि बजरंगबली श्री हनुमानजी सब ठीक कर देंगे। उनकी आस्था भी कसौटी पर खरी उतरती है, इसलिए यहां के लोगों ने हनुमान को हड्डियों के जोड़ने वाले हनुमान की उपाधि दी है।

ऐसे किया जाता है इलाज
जैसे ही पीड़िता परिसर में पहुंचती है, मंदिर के पंडा सरमनजी सभी को आंखें बंद करने के लिए कहते हैं। सभी को केवल राम का नाम जपने के लिए कहा जाता है। पांडा और उसके सहयोगी पीड़ितों को कुछ दवा खिलाते हैं जबकि उनकी आंखें बंद रहती हैं। इसकी पत्तियों और जड़ी-बूटियों को चबाकर खाने की सलाह दी जाती है। दवा खाने के बाद सभी को विदा कर दिया गया है। यहां सिर्फ इतना इलाज है। पंडा सरमन पटेल का दावा है कि इस औषधि का सेवन करने और हनुमानजी की स्तुति करने से हड्डियां अपने आप जुड़ जाती हैं।

देश की इस जगह पर लोग हड्डी टूटने पर अस्पताल नहीं जाते है मंदिर, यहां ऐसे होता है फ्री इलाज

मेला सप्ताह में दो दिन लगता है
हालांकि मंदिर में प्रतिदिन दवा दी जाती है, लेकिन इसके लिए मंगलवार और शनिवार को विशेष रूप से निर्धारित किया गया है। स्थानीय मूलचंद दुबे का कहना है कि मंगलवार और शनिवार हनुमानजी का दिन है। इस दिन दी जाने वाली औषधि अधिक प्रभावशाली होती है। यही कारण है कि मंदिर में शनिवार और मंगलवार को भोग मेला लगता है। यहां हजारों की संख्या में लोग पहुंचते हैं।
 
कई राज्यों से लोग आते हैं
स्थानीय लोगों रमेश सोनी व केशव पटेल ने बताया कि इस मंदिर की ख्याति देश भर में है। जब लोग डॉक्टरों के बजाय इलाज कराने से निराश हो जाते हैं तो वे यहां हनुमानजी की शरण लेते हैं। आगंतुकों में गुजरात, राजस्थान, यूपी, बिहार और अन्य राज्यों के लोग भी शामिल हैं। मंदिर में इलाज कराने आए उमरिया निवासी अरुण पाण्डेय, बहोरीबंद निवासी प्रभा देवी, सागर निवासी नंदकिशोर राज, महेश अवस्थी आदि ने बताया कि वे दूसरी बार आए हैं. सभी को फ्रैक्चर हुआ था। उन्होंने कहा कि पहली बार उन्होंने 100 प्रतिशत आराम महसूस किया। दूसरी बार वे केवल हनुमानजी के दर्शन करने और प्रसाद देने आए हैं।

कोई कीमत नहीं है
स्थानीय लोगों ने बताया कि मंदिर में इलाज और दवा के लिए कोई शुल्क तय नहीं है। जो भक्ति पैदा करता है, वह दान पेटी में चढ़ा देता है। बाहर की दुकान में सिर्फ तेल ही मिलता है। यह मसाज ऑयल भी 50 या 100 रुपए में मिल जाता है। कटनी निवासी राजेश पांडेय ने बताया कि कुछ दिन पहले उनका पैर फ्रैक्चर हो गया था और वह बाबा के दरबार में पहुंचे थे. अब उनका पैर बिना किसी इलाज के ठीक है। बडवारा निवासी रामनारायण महोबिया ने बताया कि साइकिल से गिरने से उसका दाहिना हाथ टूट गया है। हाथ में फ्रैक्चर होने पर डॉक्टर ने एक्सरे के बाद प्लास्टर चढ़ाने की सलाह दी। लेकिन उन्हें पता चला कि मुहास में दवा लेने से हड्डियाँ बंध जाती हैं। इसलिए वे यहां मंदिर पहुंचे। दवा खाने के बाद अब उनका हाथ पूरी तरह ठीक है। कहा जाता है कि आज तक डॉ. हनुमान के दरबार से कोई निराश नहीं लौटा।

Post a Comment

From around the web