अंडा शाकाहारी है या मांसाहारी? वैज्ञानिकों ने खोजा अब सही जवाब, हो सकते हैं जानकर हैरान

 
अंडा शाकाहारी है या मांसाहारी? वैज्ञानिकों ने खोजा अब सही जवाब, हो सकते हैं जानकर हैरान

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। हम बचपन से सुनते आ रहे हैं कि रविवार हो या सोमवार, रोज अंडे खाएं। क्योंकि अंडा खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। अंडे को लेकर लोगों के मन में यह सवाल लंबे समय से चल रहा है कि वे शाकाहारी हैं या मांसाहारी। जो लोग नॉनवेज खाते हैं उन्हें अंडे खाने में कोई दिक्कत नहीं होती है और वे उन्हें खाते हैं, लेकिन एक शाकाहारी हमेशा दुविधा में रहता है।

आज हम आपकी इस उलझन को खत्म करने की कोशिश करेंगे। अंडे शाकाहारी हैं या मांसाहारी, हम आपके इस सवाल का जवाब देंगे, क्योंकि वैज्ञानिकों को अब इस बड़े सवाल का जवाब मिल गया है। इससे पहले वैज्ञानिक आए थे चिकन या अंडा? वह भी इस सवाल का जवाब तलाश रहे थे। वैज्ञानिकों ने कहा कि दुनिया में मुर्गी पहले और अंडा बाद में आया। वैसे ही अब इस सवाल का जवाब मिल गया है. कुछ लोगों का मानना ​​है कि मुर्गी अंडे देती है, इसलिए यह मांसाहारी है। लेकिन अब वैज्ञानिकों ने इसका जवाब ढूंढ लिया है। इसे साबित करने के लिए वैज्ञानिक एक थ्योरी लेकर आए हैं। लेकिन कई लोग इस थ्योरी को गलत मानते हैं।

शाकाहारियों का मानना ​​है कि मुर्गी अंडे देती है, इसलिए वह मांसाहारी है। इसका खंडन करने के लिए वैज्ञानिकों ने तर्क दिया है कि अगर किसी जानवर से दूध भी निकलता है तो वह शाकाहारी कैसे हो गया? कई लोगों का मानना ​​है कि मुर्गियां जो अंडे देती हैं, उनमें से चूजे निकलते हैं, जो उन्हें मांसाहारी बनाता है। लेकिन बाजार में उपलब्ध सभी अंडे बांझ रह जाते हैं। चूजे वास्तव में इन अंडों से नहीं निकलते हैं।

अंडा शाकाहारी है या मांसाहारी? वैज्ञानिकों ने खोजा अब सही जवाब, हो सकते हैं जानकर हैरान

लोगों के इस भ्रम को दूर करने के लिए वैज्ञानिकों ने इस प्रश्न का उत्तर विज्ञान के माध्यम से खोजने का प्रयास किया है। अगर लोग इस तर्क को मान लें तो अंडे शाकाहारी हो जाते हैं। अंडे के अंदर तीन परतें होती हैं। पहली त्वचा है, दूसरी सफेद है और तीसरी अंडे की जर्दी है। जर्दी पीली है। अंडों पर शोध किया गया है, जिसके अनुसार उनके गोरों में प्रोटीन पाया जाता है, जिसमें जानवर का कोई हिस्सा नहीं होता है। तो, तकनीकी रूप से कहा जाए तो अंडे की सफेदी शाकाहारी होती है। जैसे अंडे की सफेदी में प्रोटीन होता है, वैसे ही जर्दी में भी। इसके अलावा कोलेस्ट्रॉल और फैट भी पाया जाता है।

जब मुर्गी और मुर्गे के संपर्क में आते हैं तो अंडे बाहर आ जाते हैं। इसमें युग्मक कोशिकाएं होती हैं, जो अंडे को मांसाहारी बनाती हैं। लेकिन बाजार में मिलने वाले अंडों के मामले में ऐसा नहीं है। मुर्गियां छह महीने के बाद अंडे देना शुरू कर देती हैं और एक या डेढ़ दिन में अंडे देती हैं। मुर्गियों के संपर्क के बिना अंडे देने वाली मुर्गियां बांझ अंडे कहलाती हैं। वैज्ञानिकों का दावा है कि इन अंडों से चूजे बाहर नहीं निकल सकते। इसलिए बाजार में मिलने वाले अंडे शाकाहारी श्रेणी में ही रखे जाएंगे।

Post a Comment

From around the web