क्या ब्रह्मांड का होने वाला है अंत? नई रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

 
क्या ब्रह्मांड का होने वाला है अंत? नई रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

ब्लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। रह्मांड में बहुत सारे रहस्य छिपे हुए हैं। वैज्ञानिक भी इन रहस्यों का पता नहीं लगा पाए हैं। अंतरिक्ष हमेशा से लोगों के लिए जिज्ञासा का केंद्र रहा है। अनंत और अनंत ब्रह्मांड में लाखों रहस्य छिपे हैं। जैसे-जैसे विज्ञान का दायरा बढ़ता गया, ब्रह्मांड का रहस्य भी बढ़ता गया। लेकिन अब एक ऐसी खबर आ रही है जिसके बारे में जानकर दुनिया भर के वैज्ञानिक हैरान रह गए हैं.

एक नए अध्ययन में पाया गया है कि ब्रह्मांड धीरे-धीरे सिकुड़ सकता है। ब्रह्मांड का विस्तार लगभग 1380 मिलियन वर्षों से हो रहा है, लेकिन अब यह रुक रहा है। यह शोध प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज जर्नल में प्रकाशित हुआ है। इस शोध में तीन वैज्ञानिकों ने डार्क एनर्जी की प्रकृति का मॉडल तैयार करने की कोशिश की है। यह मॉडलिंग ब्रह्मांड के विस्तार के पिछले अवलोकनों के आधार पर वैज्ञानिक द्वारा की गई है।

कहा जाता है कि रहस्यमयी शक्ति डार्क एनर्जी के कारण ब्रह्मांड का तेजी से विस्तार हो रहा है। मॉडल में डार्क एनर्जी एक इकाई है जिसे सर्वोत्कृष्ट कहा जाता है और यह समय के साथ फैल सकती है। रिसर में शोधकर्ताओं ने पाया है कि डार्क एनर्जी की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो सकती है। शोधकर्ताओं का दावा है कि अगले 65 मिलियन वर्षों में ब्रह्मांड की गति समाप्त हो सकती है। इसके बाद 10 करोड़ वर्षों में ब्रह्मांड का विस्तार पूरी तरह से बंद हो सकता था। फिर यह धीरे-धीरे सिकुड़ना शुरू हो सकता है और लाखों वर्षों के बाद समाप्त हो सकता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि समय और स्थान का जन्म होना चाहिए।

क्या ब्रह्मांड का होने वाला है अंत? नई रिसर्च में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में प्रिंसटन सेंटर फॉर थियोरेटिकल साइंसेज के निदेशक और शोध के सह-लेखक पॉल स्टीनहार्ट ने कहा कि यह बहुत जल्दी हो सकता है। उनका कहना है कि 65 मिलियन साल पहले चिक्सुलब क्षुद्रग्रह पृथ्वी से टकराया था, जिससे डायनासोर की मौत हो गई थी। ब्रह्मांडीय पैमाने पर, 65 मिलियन वर्ष की अवधि बहुत कम है। 1990 के दशक में वैज्ञानिकों ने महसूस किया कि ब्रह्मांड का तेजी से विस्तार हो रहा है। आकाशगंगाओं के बीच की दूरी भी तेजी से बढ़ रही है। वैज्ञानिकों ने इस तेजी से विकसित हो रहे रहस्यमय स्रोत डार्क एनर्जी को एक अदृश्य इकाई करार दिया है।

डार्क एनर्जी गुरुत्वाकर्षण के विपरीत दिशा में कार्य करती है और ब्रह्मांड में सबसे बड़ी वस्तुओं को खींचने के बजाय उन्हें दूर धकेल देती है। लेकिन डार्क एनर्जी ब्रह्मांड की कुल द्रव्यमान-ऊर्जा का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा बनाती है, हालांकि इसके गुण अभी भी एक रहस्य हैं। यह तो आने वाले समय में ही पता चलेगा कि ब्रह्मांड का अनंत विकास होगा या जल्दी खत्म हो जाएगा।

Post a Comment

From around the web