इस मंदिर के पानी से होते है कई रोग दूर, पत्थरों में सुनाई देता है डमरू का संगीत, माना जाता है एशिया का सबसे उंचा शिव मंदिर

 
 इस मंदिर के पानी से होते है कई रोग दूर, पत्थरों में सुनाई देता है डमरू का संगीत, माना जाता है एशिया का सबसे उंचा शिव मंदिर

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। भोलेनाथ के दर्शन के लिए लोग अलग-अलग शिव मंदिरों में जाते हैं। 12 ज्योर्तिलिंग और कईं सारे शिवालय वैसे तो भारत में हैं, शिवरात्री के दिन जिनमें शिवभक्त जाते हैं लेकिन एशिया के सबसे ऊंचे शिवमंदिर के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। ऐसा कहा जाता है कि भोलेनाथ स्वंय यहां वास करते हैं। अपने चमत्कार और शक्तियों के लिए हिमाचल प्रदेश में स्थित 'जटोली शिव मंदिर' बहुत प्रसिद्ध है। तो मंदिर के बारे में आइए जानते हैं विस्तार से...

हिमाचल का सबसे मशहूर मंदिर
हर साल शिवरात्री पर हजारों के हिसाब से श्रद्धालु शिव मंदिर के दर्शन के लिए जाते हैं। एशिया का यह सबसे ऊंचा शिव मंदिर हिमाचल के जिले सोलन से 7 कि.मी दूरी पर स्थित है। इसकी सुंदरता लोगों को आकर्षित करती है। इस मंदिर का मनमोहक निमार्ण किसी भवन से कम नहीं है, जोकि दक्षिण दव्रिड़ शैली से बनाया गया है।

मंदिर की मान्यता
उसके बाद स्वामी श्रीकृष्णानंद परमहंस ने आकर वहां पर तपस्या की थी। उनकी दिशा निर्देश पर ही जटोली मंदिर का कार्य समपन्न हुआ था। जटोली शिव मंदिर को बनाने में लगभग 39 साल का समय लगा था। मान्यता है कि स्वंय भोलेनाथ एक बार इस मंदिर में आकर काफी समय तक रहे थे।

इस मंदिर के पानी से होते है कई रोग दूर, पत्थरों में सुनाई देता है डमरू का संगीत, माना जाता है एशिया का सबसे उंचा शिव मंदिर

जटोली मंदिर की संरचना
मंदिर के बाहर की तरफ कईं देवी-देवताओं की मूर्ति स्थापित है। मंदिर के अंदर मनी से बना शिवलिंग स्थापित है। इस मंदिर का गुबंद 111 फीट ऊंचा है और मंदिर में प्रवेश करने के लिए भक्तों को 100 सीढ़ियां चढ़कर भोलेनाथ के दर्शन के लिए जाना पड़ता है। इसके अलावा मंदिर के ऊपर की तरफ सोने का कलश भी रखा हुआ है। साथ ही मंदिर में माता पार्वती और भोलेनाथ की मूर्ति भी विराजमान है।

इस मंदिर में किया था शिव जी ने त्रिशूल से वार
उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर शिवजी ने अपने त्रिशूल से उस जगह पर प्रहार किया और वहां पानी-पानी हो गया। पौराणिक कथाओं के अनुसार, किसी समय में यहां पानी की कमी थी, जिसे दूर करने के लिए श्रीकृष्णानंद परमहंस ने शिव जी की कठोर तपस्या की। कहा जाता है उस दिन के बाद इस जगह पर पानी की कभी भी कमी नहीं हुई।

मान्यता है कि इस पानी में कुछ औषधीय गुण पाए जाते हैं जिससे की त्वचा में हो रहे रोगों का इलाज किया जा सकता है। मंदिर के उत्तर-पूर्व कोने पर 'जल कुंड' बना है, जिसे पवित्र गंगा नदी का रूप माना जाता है। यह अनोखा मंदिर  लगातार तीन पिरामिडों से बना है, जिसके पहले पिरामिड पर भगवान गणेश की प्रतिमा , दूसरे पर शेष नाग की मूर्ति बनी हुई है।

मंदिर में कई भक्त प्रार्थना करने के लिए इकट्ठा होते हैं। यह प्राचीन मंदिर अपने वार्षिक मेले के लिए प्रसिद्ध है, जो महाशिवरात्रि के त्योहार के दौरान आयोजित किया जाता है।

Post a Comment

From around the web