ब्रह्मांड के इस अनोखे ग्रह पर पानी नहीं बल्कि होती है पत्थरों की बारिश, जानिए क्या है इसकी वजह

 
ब्रह्मांड के इस अनोखे ग्रह पर पानी नहीं बल्कि होती है पत्थरों की बारिश, जानिए क्या है इसकी वजह

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। वैज्ञानिकों द्वारा खोजे गए रहस्यमय ग्रहों का आकार बृहस्पति के आकार के बराबर है। ये दोनों ग्रह हमारी आकाशगंगा में अपने तारों के पास मौजूद हैं। दोनों ग्रह तारे के इतने करीब हैं कि उच्च तापमान के कारण वे गर्म हो रहे हैं। वाष्पित चट्टानें एक ग्रह पर बरसती हैं, और शक्तिशाली धातुएँ, जैसे कि टाइटेनियम, दूसरे पर वाष्पित हो जाती हैं। ये दोनों क्रियाएं ग्रह के उच्च तापमान के कारण होती हैं। वैज्ञानिकों ने दो अध्ययनों में इन दो रहस्यमय ग्रहों का विस्तार से वर्णन किया है।

ऐसा माना जाता है कि इन दो ग्रहों की खोज से वैज्ञानिक आकाशगंगाओं की विविधता, जटिलता और अद्वितीय रहस्यों के बारे में जान सकेंगे। इसके साथ ही बाह्य ग्रहों से ब्रह्मांड में ग्रह प्रणाली के विकास की विविधता के बारे में जानकारी प्राप्त हो रही है। नेचर जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, वैज्ञानिकों ने हबल स्पेस टेलीस्कोप के माध्यम से पृथ्वी से WASP-178b 1300 प्रकाश वर्ष दूर का अवलोकन किया है। जिस वातावरण में ग्रह पाया जाता है वह सिलिकॉन मोनोऑक्साइड गैस से भरा होता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि दिन में ग्रह पर बादल नहीं होते हैं, लेकिन रात में दो हजार मील प्रति घंटे की रफ्तार से तूफानी हवाएं चलती हैं। शोध में कहा गया है कि ग्रह अपने तारे के बहुत करीब है। इस ग्रह का एक हिस्सा हमेशा अपने तारे की ओर होता है। वैज्ञानिकों का दावा है कि ग्रह के दूसरी तरफ सिलिकॉन मोनोऑक्साइड इतना ठंडा होता है कि बादलों से पानी के बजाय चट्टानों की बारिश होने लगती है।

इससे सुबह-शाम का तापमान इतना बढ़ जाता है कि पत्थर भी वाष्पित हो जाते हैं।शोधकर्ताओं का कहना है कि पहली बार इस रूप में सिलिकॉन मोनोऑक्साइड पाया गया है। दूसरा अध्ययन एस्ट्रोफिजिकल लेटर्स जर्नल में प्रकाशित हुआ था। इसमें खगोलविदों ने एक बेहद गर्म ग्रह के बारे में बताया है। इस अलौकिक ग्रह का नाम KELT-20b है जो 400 प्रकाश वर्ष दूर मौजूद है।

वैज्ञानिकों ने पता लगाया है कि वायुमंडल पर पराबैंगनी किरणों की एक परत होती है। KELT-20b पर बनी तापीय परत पृथ्वी के समताप मंडल के समान है। पृथ्वी की ओजोन परत से पराबैंगनी किरणों के अवशोषण के कारण तापमान 7 से 31 मील के बीच बढ़ जाता है। KELT-20b पर, मूल तारे का यूवी विकिरण वातावरण में धातु को गर्म करता है, जिससे एक ठोस थर्मल उलटा परत बनता है।

Post a Comment

From around the web