आपके बच्चे को हत्यारा बना सकती है ऑनलाइन गेमिंग की लत, अभी संभल जाए कहीं हो ना जाए देर

 
आपके बच्चे को हत्यारा बना सकती है ऑनलाइन गेमिंग की लत, अभी संभल जाए कहीं हो ना जाए देर

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। राजस्थान के कोटा में एक ऑनलाइन पबजी गेम और हिंसा से जुड़ी खबर सामने आने पर हर कोई दंग रह गया. जहां खेल के नशे में धुत एक युवक ने पहले युवती से दुष्कर्म किया और फिर पत्थर से कुचल कर उसकी हत्या कर दी. आरोपी युवक एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखता है, जिसकी कोई आपराधिक पृष्ठभूमि नहीं है। आरोपी ने पुलिस के सामने कबूल किया कि वह पबजी का शौकीन था और घंटों ऑनलाइन गेम खेलता था। युवती की हत्या करने से पहले युवक ने कहा कि अगर उसे मारा नहीं जा सकता तो वह किसी का नहीं हो सकता. यह पहली बार नहीं है जब ऑनलाइन गेम की लत के कारण किसी की जान चली गई हो। खेल के आदी युवा खुद को या अपने आसपास के लोगों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

अभी कुछ दिन पहले ही लखनऊ से चौंकाने वाली खबर सामने आई थी, जहां 16 साल के लड़के ने पबजी खेलने से मना कर दिया, घर में रखी लाइसेंसी बंदूक से अपनी मां को गोली मार दी और फिर वीडियो में अपने पिता को गोली मार दी. और घटना के बारे में बताया। घटना में चौंकाने वाला खुलासा यह रहा कि किशोरी हर घंटे अपनी मां के पास यह देखने जाती थी कि गोली लगने के बाद वह जिंदा तो नहीं है। लखनऊ में डॉक्टरों के मुताबिक, महिला कई घंटों तक जिंदा रही और बच सकती थी। भारत समेत देश में कई ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं, जिनमें इस खेल के कारण बच्चों और बुजुर्गों की जान चली गई है. यहां कुछ अन्य घटनाएं हैं जो पब गेम या ऑनलाइन गेमिंग के कारण हुई हैं।

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि "पब की लत एक बहुत मजबूत लत है। यह शराब, मारिजुआना, मारिजुआना या कोकीन के आदी व्यक्ति की तरह है। जब ऐसे लोग नशे में रहना बंद कर देते हैं, तो वे हिंसक हो जाते हैं। पबजी के साथ भी ऐसा ही होता है। बच्चे जो आदी होते हैं। इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए। किशोरों को इससे छुटकारा पाने के लिए चिकित्सा और परामर्श की आवश्यकता होती है। माता-पिता को अपने बच्चों पर नजर रखनी चाहिए। उन्हें ऑनलाइन गेम के बजाय आउटडोर गेम खेलने के लिए प्रोत्साहित करें।

परमाणु परिवार व्यवस्था ने बिगाड़ा माहौल
पिछले कुछ समय से न्यूक्लियर फैमिली का चलन बड़ा रहा है। कभी मजबूरी में तो कभी लोग अपनी मर्जी से दूर रहना पसंद करते हैं, जिसका सीधा असर आपके बच्चों पर पड़ता है। पहले संयुक्त परिवार में बच्चे बड़ों के साथ कब बड़े हुए? पता नहीं था, लेकिन आज जब उनके पास खुद के लिए समय नहीं है, ऐसे में माता-पिता अपने बच्चों को वह समय नहीं दे पाते हैं, जो वे करते थे। बच्चे अकेले होते जा रहे हैं और यही उन्हें ऑनलाइन गेमिंग की ओर धकेल रहा है। ऑनलाइन गेमिंग में बच्चे टारगेट को मारते हैं और असल जिंदगी में जिनसे वो सहमत नहीं होते हैं उन्हें अपना दुश्मन मान कर हिंसक कार्रवाई करते हैं.

Post a Comment

From around the web