भारत के इस रहस्यमयी गांव में लोग करते है चमगादड़ों की पूजा, हैरान करने वाली है वजह

 
भारत के इस रहस्यमयी गांव में लोग करते है चमगादड़ों की पूजा, हैरान करने वाली है वजह

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। दो साल पहले साल 2020 में चीन के वुहान शहर से निकले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा दिया था. हालांकि अब कोरोना के मामले कम हो रहे हैं, लेकिन खतरा पूरी तरह टला नहीं है। जब कोरोना फैला तो माना जा रहा था कि यह चमगादड़ से फैला है। चमगादड़ को भी कोरोना वायरस के प्रसार के लिए जिम्मेदार माना जा रहा है। लेकिन आज तक इसका कोई पुख्ता सबूत नहीं मिला है। आपको बता दें कि चमगादड़ को किसी भी तरह से अशुभ माना जाता है, लेकिन आज हम आपको भारत के एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जहां लोग चमगादड़ की पूजा करते हैं।

वैसे बल्ले का नाम सुनते ही सबके मन में एक अशुभ भय पैदा होने लगता है. लेकिन बिहार के वैशाली जिले में एक ऐसा मंदिर है जहां चमगादड़ों को गांव का देवता माना जाता है और लोग चमगादड़ की पूजा करते हैं. यहां के लोगों का मानना ​​है कि चमगादड़ समृद्धि का प्रतीक होते हैं, जहां इनकी हार होती है, वहां कभी भी पैसों की कमी नहीं होती है। दरअसल, बिहार के वैशाली जिले के सरसई गांव में हजारों की संख्या में चमगादड़ हैं.

भारत के इस रहस्यमयी गांव में लोग करते है चमगादड़ों की पूजा, हैरान करने वाली है वजह

यह गांव अपने चमगादड़ों के लिए बहुत प्रसिद्ध हो गया है। यहां के लोगों का मानना ​​है कि चमगादड़ उनके पूरे गांव की रक्षा करते हैं। इतना ही नहीं इस गांव में चमगादड़ों को देखने के लिए भी बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं। सरसई गांव के लोगों का मानना ​​है कि चमगादड़ों के आने के बाद से इस गांव में हमेशा खुशियां बनी रहती हैं. गांव के लोग किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले चमगादड़ की पूजा करते हैं।

सरसई गांव के लोगों का कहना है कि इस मंदिर में मौजूद चमगादड़ों को देखने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं, लेकिन ये चमगादड़ किसी भी तरह से किसी को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं. वहीं अगर रात को गांव के बाहर से कोई आता है तो ये चमगादड़ शोर मचाने लगते हैं. जिसके बाद गांव के लोग सतर्क हो गए हैं. लेकिन जब उसी गांव का कोई व्यक्ति रात को गांव में आता है तो ये चमगादड़ कुछ नहीं कहते।

Post a Comment

From around the web