कहीं लाशो के साथ डांस तो कही काट देते है अंगुलीया.. जानिए दुनिया के ऐसे ही 10 अजीबो गरीब रिवाज

 
कहीं लाशो के साथ डांस तो कही काट देते है अंगुलीया.. जानिए दुनिया के ऐसे ही 10 अजीबो गरीब रिवाज

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। दुनिया अजीबोगरीब रीति-रिवाजों और परंपराओं से भरी पड़ी है। आज भी इस आधुनिक और तकनीकी रूप से सुसज्जित दुनिया में ऐसे लोग हैं जो अपनी पुरानी परंपराओं में जी रहे हैं। इनका रहन-सहन और परंपराएं इतनी खतरनाक हैं कि इनके बारे में सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। आइए जानते हैं दुनिया के कुछ ऐसे रिवाजों के बारे में, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

इंडोनेशिया की दानी जनजाति में उंगलियां काटने की प्रथा प्रचलित है। जब परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु हो जाती है, तो महिलाओं को अपनी उंगली का एक छोटा सा हिस्सा काटना पड़ता है। हालांकि पिछले कुछ सालों से यहां इस प्रथा पर रोक लगा दी गई है, लेकिन यहां के कुछ बुजुर्ग आज भी इन परंपराओं का पालन करते हैं। महाराष्ट्र में जब बारिश कम होती है या नहीं होती है, तो एक बहुत ही अजीब उपाय किया जाता है। यहां मेंढकों की शादी कर दी जाती है और इंद्र को प्रसन्न करने के लिए बारिश लाने के लिए झील में छोड़ दिया जाता है।

कहीं लाशो के साथ डांस तो कही काट देते है अंगुलीया.. जानिए दुनिया के ऐसे ही 10 अजीबो गरीब रिवाज

चीन में पति को अपनी गर्भवती पत्नी के साथ अंगारों पर नंगे पांव चलना पड़ता है। ऐसा माना जाता है कि इससे डिलीवरी में आसानी होती है। दक्षिणी केन्या, उत्तरी तंजानिया में, मसाकी नामक एक जंगली जनजाति विभिन्न शुभ अवसरों पर गाय का खून पीती है। यह बच्चे के जन्म और विवाह में देखा जाता है। यहां ये लोग पहले गाय को बाण से घायल करते हैं और फिर उसे चूसकर उसका खून पीते हैं। इस दौरान गाय की मौत न हो इसका विशेष ध्यान रखा जाता है।

कहीं लाशो के साथ डांस तो कही काट देते है अंगुलीया.. जानिए दुनिया के ऐसे ही 10 अजीबो गरीब रिवाज

मलेशिया और इंडोनेशिया में टिडोंग जनजाति में शादी से जुड़ा एक अजीबोगरीब रिवाज है। नवविवाहितों को तीन दिनों के लिए बाथरूम का उपयोग करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है। यानी इस दौरान वे न तो पेशाब करते हैं, न शौच करते हैं और न ही नहाते हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से दांपत्य जीवन में सुख-शांति आती है। पिनिस फेस्टिवल जापान में बहुत लोकप्रिय है। इस त्योहार को कंमारा मत्सुरी के नाम से भी जाना जाता है। जापान के कावासाकी की सड़कों पर लिंग के आकार की मूर्ति परेड करते श्रद्धालु। यह त्यौहार हर साल अप्रैल के पहले रविवार को मनाया जाता है।

कहीं लाशो के साथ डांस तो कही काट देते है अंगुलीया.. जानिए दुनिया के ऐसे ही 10 अजीबो गरीब रिवाज

तिब्बत में, किसी की मृत्यु के बाद, शरीर को एक निश्चित पर्वत पर खींच लिया जाता है और, खंडित होने के बाद, पंचतत्चा में विलीन होने के लिए छोड़ दिया जाता है। यहां बौद्ध धर्म मानने वाले लोगों का मानना ​​है कि मरने के बाद शरीर किसी काम का नहीं होता। तो अच्छा है इसे पशु चारा बनाकर दया का धर्म बना लें। कंबोडिया में पिता अपनी बेटियों के लिए ऐसे काम करते हैं जिसकी आप कल्पना भी नहीं कर सकते। लड़कियों के मासिक धर्म शुरू होते ही यानी 13 से 15 साल की उम्र में उनके लिए अलग से झोपड़ियां बनाई जाती हैं। इसे लव हट कहा जाता है। परिवार के सदस्य एक लड़की को लड़कों के साथ संबंध बनाने के लिए अपने पति को चुनने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। एक लड़की किसी भी लड़के के साथ तब तक संबंध बना सकती है जब तक कि उसे अपनी पसंद का लड़का न मिल जाए।

मेडागास्कर की मालागासी जनजाति के बीच 'फमादिहाना' नामक एक प्रथा पाई जाती है। यह वहां हर सात साल में मनाया जाता है। वे अपने पूर्वजों के शवों को बाहर निकालते हैं और उन्हें फिर से नए कपड़ों में लपेटते हैं। फिर संगीत के बीच कब्र के चारों ओर नृत्य करें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से उनके पूर्वज उन्हें सुखी और समृद्ध बनाने का आशीर्वाद देते हैं। अफ्रीका के इथियोपिया में मुर्सी जनजाति में एक अजीबोगरीब शादी का नियम है। यहां लोग शादी के लिए खूनी लड़ाई लड़ते हैं। यह लड़ाई लाठी से की जाती है। यह लड़ाई तब तक जारी रहती है जब तक कि अगले व्यक्ति की मृत्यु नहीं हो जाती। इसमें जो लड़का युद्ध जीतना चाहता है उसकी शादी सबसे खूबसूरत लड़की से कर दी जाती है। इसके पीछे उनका मानना ​​है कि यह अधिकारों की लड़ाई है।

कहीं लाशो के साथ डांस तो कही काट देते है अंगुलीया.. जानिए दुनिया के ऐसे ही 10 अजीबो गरीब रिवाज

अफ्रीका के इथियोपिया में मुर्सी जनजाति में एक अजीबोगरीब शादी का नियम है। यहां लोग शादी के लिए खूनी लड़ाई लड़ते हैं। यह लड़ाई लाठी से की जाती है। यह लड़ाई तब तक जारी रहती है जब तक कि अगले व्यक्ति की मृत्यु नहीं हो जाती। इसमें जो लड़का युद्ध जीतना चाहता है उसकी शादी सबसे खूबसूरत लड़की से कर दी जाती है। इसके पीछे उनका मानना ​​है कि यह अधिकारों की लड़ाई है। मेडागास्कर की मालागासी जनजाति के बीच 'फमादिहाना' नामक एक प्रथा पाई जाती है। यह वहां हर सात साल में मनाया जाता है। वे अपने पूर्वजों के शवों को बाहर निकालते हैं और उन्हें फिर से नए कपड़ों में लपेटते हैं। फिर संगीत के बीच कब्र के चारों ओर नृत्य करें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से उनके पूर्वज उन्हें सुखी और समृद्ध बनाने का आशीर्वाद देते हैं।

Post a Comment

From around the web