Special Forces: ये हैं भारत की सबसे घातक और किलर स्पेशल फोर्सेस, जानिए इनके बारे में कुछ खास बातें

 
Special Forces: ये हैं भारत की सबसे घातक और किलर स्पेशल फोर्सेस, जानिए इनके बारे में कुछ खास बातें

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। देश में विपदा हो या शत्रुओं की नापाक हरकतों का मुंहतोड़ जवाब, इनके पैर किसी भी तरह से नहीं रुकते। भारत दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश है और कुछ मुश्किल पड़ोसियों से घिरा हुआ है, लेकिन इन बहादुर लोगों का एक ही लक्ष्य है, देश और उसके नागरिकों की किसी भी कीमत पर रक्षा करना।

आमतौर पर आप आर्मी, नेवी और एयरफोर्स को आर्मी के नाम से ही जानते हैं, लेकिन भारत में कुछ खास फोर्सेज हैं, जो बिना देखे ही दुश्मन के दांत मारने का हुनर ​​जानती हैं। यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारतीय कमांडो फोर्स को सतर्क रहने और अचानक दुश्मन के हमले से उबरने के लिए आधे घंटे से भी कम समय मिलता है। जानिए ऐसी ही कुछ शक्तियों के बारे में...

मार्कोस मरीन कमांडो

Special Forces: ये हैं भारत की सबसे घातक और किलर स्पेशल फोर्सेस, जानिए इनके बारे में कुछ खास बातें

मार्कोस भारतीय नौसेना की एक विशेष अभियान इकाई है। मार्कोस मरीन कमांडो को सबसे आधुनिक और आधुनिक माना जाता है। MARCOS (समुद्री कमांडो) जिसे 1987 में स्थापित किया गया था। मार्कोस कमांडो बनना आसान नहीं है। इसकी ट्रेनिंग शायद दुनिया में सबसे कठिन होती है और कमांडो को शारीरिक और मानसिक कठोरता के लिए तैयार किया जाता है। इसका उद्देश्य आतंकवाद का मुकाबला, विशेष निरीक्षणों पर सीधी कार्रवाई, अपरंपरागत युद्ध, बंधक बचाव, व्यक्तिगत वसूली और इसी तरह के विशेष अभियानों को अंजाम देना है। देश के ये कमांडो जमीन, समुद्र और हवा में लड़ने में पूरी तरह सक्षम हैं। मार्कोस को यूएस नेवी स्पेशल फोर्सेज सील के रूप में प्रशिक्षित किया जाता है। मार्कोस ने कारगिल युद्ध, ऑपरेशन लीच, ऑपरेशन स्वान जैसे खतरनाक मिशन पूरे किए हैं।

गरुड़ कमांडो फोर्स

भारतीय वायु सेना ने अपने एयरबेस की सुरक्षा के लिए 2004 में स्काई गार्ड गरुड़ फोर्स की स्थापना की। गरुड़ बल को हवाई युद्ध का विशेषज्ञ माना जाता है। अपने कौशल से वे जानते हैं कि कैसे दुश्मन की सीमाओं में घुसना है और अपने सहयोगियों को सफलतापूर्वक बाहर निकालना है। गरुण कमांडो को युद्ध के दौरान दुश्मन की रेखाओं के पीछे काम करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। सैन्य बलों के विपरीत, ये कमांडो काली टोपी पहनते हैं। बाकी बलों के विपरीत, गरुड़ सेना केवल वायु सेना के सैनिकों को गरुड़ कमांडो बनने का अवसर प्रदान करती है। इनकी ट्रेनिंग 72 हफ्ते की होती है, जबकि पूरी तरह से गरुड़ फोर्स में शामिल होने में करीब 3 साल का वक्त लगता है। उनका लक्ष्य 'हमले से सुरक्षा' है। वे देश को हर तरह के हमलों से बचाने के लिए तैयार हैं।

Special Forces: ये हैं भारत की सबसे घातक और किलर स्पेशल फोर्सेस, जानिए इनके बारे में कुछ खास बातें

कमांडो फोर्स कोबरा

कोबरा कमांडो भारत की सबसे अच्छी ताकतों में से एक है। कोबरा फोर्स केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) का एक विशेष बल है। इन्हें विशेष रूप से दुश्मन के वेश में हमला करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। यह दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अर्धसैनिक बलों में से एक है, इसके लिए उन्हें विशेष 'गोरिल्ला प्रशिक्षण' दिया जाता है। वे घात लगाकर हत्या करने में माहिर हैं। उन्हें नक्सलियों से लड़ने के लिए भी भेजा जाता है। कोबरा फोर्स के कारनामों को हमेशा गुप्त रखा जाता है। उन्हें दिल्ली में संसद और राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा के लिए भी तैनात किया गया है।
विज्ञापन

घातक बल

कंपोनेंट फोर्स का काम भारतीय सेना के साथ मिलकर काम करना है। यह 20 आदमियों की एक प्लाटून है, जिसका काम दुश्मन को चौंका देना और फिर उस पर हमला करना है। ये बल सेना के आगे काम करते हैं, जिससे सेना को आने वाले खतरों के बारे में पहले से ही पता होता है। वे दुश्मन के इलाके पर हमला करते हुए जाते हैं। इतना ही नहीं वह दूर बैठे बड़े युद्धक हथियारों से दुश्मन पर हमला कर सकता है। उन्होंने कारगिल युद्ध में भी अहम भूमिका निभाई थी। उनका प्रशिक्षण बहुत कठिन और खतरनाक है। उन्हें पहाड़ पर चढ़ने और 50-60 किमी की तेज चलने की ट्रेनिंग दी जाती है। प्रशिक्षण के दौरान, वे हाथों में बंदूकें और पीठ पर 20 किलो वजन लेकर मीलों तक दौड़ते हैं।

Special Forces: ये हैं भारत की सबसे घातक और किलर स्पेशल फोर्सेस, जानिए इनके बारे में कुछ खास बातें

एलीट पैराकमांडो

एलीट पैराकमांडो कमांडो इजरायली टीओर असॉल्ट राइफलों से लैस हैं। भारतीय सेना के कुलीन पैराकमांडो ने भारत-म्यांमार सीमा पर एक सर्जिकल मिशन चलाया। इस कमांडो यूनिट का गठन 1965 में भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध के दौरान हुआ था। वह न केवल जमीन पर बल्कि हवा में भी लड़ सकता है। एलीट पैरा कमांडो ने 1971 और 1999 के युद्धों में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। पैरा कमांडो ने पैराशूट करने और दुश्मन के इलाकों में गहराई तक घुसने की क्षमता हासिल कर ली है। यह भारतीय सेना की एकमात्र इकाई है जिसे अपने शरीर पर टैटू गुदवाने की अनुमति है, कहा जाता है कि हजारों में से केवल 10 से 20 प्रतिशत ही प्रशिक्षण प्राप्त करते हैं।

भारतीय सेना के प्रशिक्षित कमांडो दुश्मन को धोखा देने के लिए खास ड्रेस का इस्तेमाल करते हैं। इस पोशाक का हल्का रंग उन्हें रेगिस्तान में और गहरा रंग हरियाली के बीच छिपने में मदद करता है। कमांडो विशेष वेबबेड सूट भी पहनते हैं, जिनका इस्तेमाल वातावरण में छिपने के लिए किया जा सकता है। विशेष बल बैंगनी रंग की बेरी पहनते हैं और उनकी इज़राइली टीओर असॉल्ट राइफलें उन्हें अर्धसैनिक बलों से अलग करती हैं।
एसपीजी और एनएसजी को तो आप जानते ही हैं...

विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी): उनके ट्रेडमार्क सफारी सूट में दिखाई देने पर, देश के प्रधान मंत्री की सुरक्षा के लिए एसपीजी का मसौदा तैयार किया जाता है। इसका गठन 1985 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद हुआ था। अब उनका कमांडो फोर्स पूर्व प्रधानमंत्रियों और उनके परिवारों को सुरक्षा प्रदान करता है।

Special Forces: ये हैं भारत की सबसे घातक और किलर स्पेशल फोर्सेस, जानिए इनके बारे में कुछ खास बातें

एनएसजी/ब्लैक कैट कमांडो: एनएसजी या ब्लैक कैट कमांडो देश की सबसे प्रसिद्ध स्पेशल कमांडो फोर्स है। यह ताकत अपना काम करने में जरा भी नहीं हिचकिचाती। चाहे दुश्मन को ढूंढना हो या देश में घुसपैठ करने वाले आतंकियों को मारना हो। 1984 में यह बल

Post a Comment

From around the web