15 वीं शताब्दी से वीरान है दुनिया के शानदार शहर, जहां दूर दूर तक न घर है ना ही इंसान

 
15 वीं शताब्दी से वीरान है दुनिया के शानदार शहर, जहां दूर दूर तक न घर है ना ही इंसान

ट्रेवल न्यूज डेस्क।। दुनिया में कई ऐसी जगह हैं जिनका इतिहास बहुत पुराना है। आज इनमें से कई स्थान विकसित हैं, कुछ उस समय बहुत विकसित हैं, लेकिन आज वे वीरान हैं। दुनिया में ही नहीं भारत में भी कई जगह ऐसी हैं जो लोगों से गूंजती थीं, लेकिन आज वो शहर पूरी तरह से वीरान हैं। आज हम आपको भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के उन शहरों के बारे में बताने जा रहे हैं जो 15वीं सदी से वीरान हैं।

बॉडी, कैलिफ़ोर्निया

15 वीं शताब्दी से वीरान है दुनिया के शानदार शहर, जहां दूर दूर तक न घर है ना ही इंसान
अमेरिकी शहर कैलिफोर्निया में 'वर्तमान' निकाय की जनसंख्या 1870 के दशक के अंत में 10,000 थी। लगभग 8,500 फीट की ऊंचाई पर स्थित यह पिंड कभी सोने की खानों के लिए जाना जाता था। उस समय शहर बहुत समृद्ध और खुशहाल था। लेकिन 20वीं सदी की शुरुआत में शहर ने अपनी चमक खो दी और 1920 में इसकी आबादी घटकर मात्र 120 रह गई। आज यह शहर अपने 'वाइल्ड वेस्ट टूर' के लिए जाना जाता है।

क्राको, इटली
इटली के दक्षिण में स्थित क्राको कभी अपनी शानदार वास्तुकला के लिए विश्व प्रसिद्ध था। लेकिन आज यह शहर सबसे वीरान जगह के तौर पर जाना जाता था। वर्ष 1960 में सीवरेज, पानी की कमी और कई भूस्खलन की समस्या ने यहां लोगों का पलायन शुरू कर दिया। 1980 के बाद से शहर पूरी तरह से वीरान हो गया है।

15 वीं शताब्दी से वीरान है दुनिया के शानदार शहर, जहां दूर दूर तक न घर है ना ही इंसान

हाशिमा द्वीप, जापान
जापान के नागासाकी के तट पर स्थित हाशिमा द्वीप 1887 से 1974 तक खनन के लिए प्रसिद्ध था। लेकिन प्राकृतिक आपदाओं की शुरुआत के साथ ही इस जगह की सुंदरता धूमिल हो गई। हाशिमा का नाम सुनकर आपको 'द्वितीय विश्व युद्ध' की याद जरूर आ गई होगी, आपने सही सुना होगा, उस दौरान इसका इस्तेमाल एक शिविर के रूप में किया जाता था। लेकिन पिछले कई सालों में यह पर्यटन के लिए एक बेहतरीन डेस्टिनेशन बन गया है।

बेल्सी गांव, स्पेन
1937 में, स्पेनिश गृहयुद्ध के दौरान, इस क्षेत्र को एक सप्ताह के लिए रिपब्लिकन और फासीवादियों द्वारा घेर लिया गया था। इसके बाद 1939 में यहां 'बेल्सी गांव' बसा। लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ये गांव पूरी तरह से नष्ट हो गए थे। आज यह स्पेनिश पर्यटन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है।

15 वीं शताब्दी से वीरान है दुनिया के शानदार शहर, जहां दूर दूर तक न घर है ना ही इंसान

अर्लतुंगा, ऑस्ट्रेलिया

अर्लतुंगा को मध्य ऑस्ट्रेलिया के बाहर पहले आधिकारिक शहर के रूप में भी जाना जाता है। अर्लतुंगा 20,000 साल पुराना है, जिसमें स्वदेशी लोगों का इतिहास है। आज यह जगह भूतिया जगह बन चुकी है। 1887 में इस जगह को यूरोपीय लोगों ने सोने की तलाश में बसाया था और उस समय आबादी लगभग 300 थी।

Post a Comment

From around the web