सबसे अनोखे है भारतीय इंजिनियर्स के तगडे चमत्कार, देखने वालों की रह जायें आंखे फटी

 
सबसे अनोखे है भारतीय इंजिनियर्स के तगडे चमत्कार, देखने वालों की रह जायें आंखे फटी

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।।भारत हमेशा से ही शानदार वास्तुकला  सुंदर स्मारकों से लेकर ऐतिहासिक किलों तक का देश रहा है। भारतीय इंजीनियरों के कुछ अद्भुत चमत्कार सांस्कृतिक विविधता और समृद्ध विरासत की धरती होने के नाते, लोगों को हैरान वास्ताव में हमें और बाहर से घूमने आए कर देते हैं। पानी के अंदर सुरंग बनाने की बात हो या फिर दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाने की फिर चाहे वह, हर चीज में अपनी प्रतिभा को भारतीय इंजीनियरों ने बखूबी दर्शाया है। आप भी अगर इन प्रोजेक्ट्स को देखें, तो यकीनन दंग रह जाएंगे और नहीं रह पाएंगे इनकी तारीफ किए बिना। तो भारत के अद्भुत इंजीनियरिंग चमत्कारों के बारे में आइए जानते हैं ।

अटल सुरंग, रोहतांग पास
समुद्र तल से 10 हजार फीट ऊपर इस सुरंग का नाम भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखा गया है। घोड़े की नाल के आकार की 9.02 किमी लंबी सह सुरंग दुनिया की सबसे मोटोरेबल सुरंग है।

पंबन ब्रिज, तमिलनाडु

इसकी खासियत यह है कि यह आइलैंड और मुख्य भूमि को एकसाथ जोड़ता है। मुंबई में बांद्रा-वर्ली सी लिंक के बाद देश का दूसरा सबसे लंबा समुद्री पुल पंबन ब्रिज है।

बांद्रा-वर्ली सी लिंक
इस समुद्री लिंक की ऊंचाई 43 मंजिला इमारत के बराबर है, जो दिल्ली में कुतुब मीनार की ऊंचाई से 63 गुना ज्यादा है। बताया जाता है कि यह पुल 1644 करोड़ रूपए की लागत से बनाया गया है। खुले सुमद्र के ऊपर देश का पहला आठ लेन केबल स्टे, फ्री वे होने के कारण इस पुल को पूरा होने और चालू होने में एक दशक लग गया था।

सबसे अनोखे है भारतीय इंजिनियर्स के तगडे चमत्कार, देखने वालों की रह जायें आंखे फटी

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, गुजरात
इसके ग्राउंड में एक म्यूजियम, थ्री स्टार होटल, एक फूड कोर्ट और मेमारियल गार्डन है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पूरी दुनिया में सबसे ऊंची मूर्ति है। सबसे ऊंची होने के कारण इस सरंचना को 7 किमी के दायरे में रखा गया है।

महात्मा गांधी सेतु , बिहार
राष्ट्रपिता के नाम पर बना यह पुल दक्षिण में पटना को उत्तर में हाजीपुर से कनेक्ट करता है। असम में भूपेन हजारिका सेतु के बाद देश का दूसरा सबसे लंबा नदी पुल महात्मा गांधी सेतु है। लंबा पुल होने के कारण इसे बनने में एक दशक से ज्यादा समय लग गया था।

बोगीबिल ब्रिज, असम
यह देश का 5वां सबसे लंबा पुल होने के अलावा देश का दूसरा सबसे लंबा रेल कम रोड ब्रिज है। ब्रह्मपुत्र नदी पर देश का सबसे लंबा रेल कम रोड ब्रिज होने के कारण इस सरंचना को पूरा होने में कुल 200 महीने लगे थे।

सिग्नेचर ब्रिज, नई दिल्ली

देश का पहला एसिमेट्रिकल केबल स्टे ब्रिज होने के कारण यह वजीराबाद को पूर्वी दिल्ली से जोड़ता है। देश की राजधानी दिल्ली में आप सिग्नेजर ब्रिज देख सकते हैं। बता दें कि यह शहर की सबसे ऊंची संरचना है और कुतुब मीनार की ऊंचाई से लगभग दो गुना ज्यादा ही है।

Post a Comment

From around the web