550 सालों से दफ़्न राज का खुल गया रहस्य, खुदाई में मिले 140 बच्चों के अवशेष से मचा हडकंप

 
550 सालों से दफ़्न राज का खुल गया रहस्य, खुदाई में मिले 140 बच्चों के अवशेष से मचा हडकंप

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। आपने हमारे देश भारत में अंधविश्वास की कई कहानियां सुनी होंगी, इसके साथ ही अब अंधविश्वास केवल भारत तक ही सीमित नहीं है बल्कि विदेशों में भी बहुत लोकप्रिय है। जिसका एक ताजा मामला सामने आया है। इसे सुनने के बाद आपके बाल झड़ जाएंगे. ऐसा ही एक मामला पेरू के ट्रूजिलो शहर से सामने आया है। पेरू के तीसरे सबसे बड़े शहर में 140 बच्चों के अवशेष मिले हैं।

नेशनल ज्योग्राफिक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 551 साल पहले पेरू के उत्तरी तटीय क्षेत्र में एक रस्म के तहत इन बच्चों की बलि दी गई थी। वहीं, वहां बच्चों के शवों के अलावा 200 छोटे लामाओं के शव भी मिले हैं, जो एक प्रकार का जानवर है। पुरातत्वविदों को चिमू संस्कृति के केंद्र के पास 140 से अधिक बच्चों के अवशेष मिले हैं। इन अवशेषों में एक छोटे लामा के अवशेष भी हैं।

550 सालों से दफ़्न राज का खुल गया रहस्य, खुदाई में मिले 140 बच्चों के अवशेष से मचा हडकंप

अवशेषों से पता चला कि इन बच्चों का दिल निकालने के बाद उनकी बलि दी गई थी। बच्चों का दिल निकालने के लिए उनकी पसलियां और पेट की अन्य हड्डियां काट दी गईं, जिसे दुनिया में बच्चों की बलि का सबसे बड़ा मामला कहा जाता है। पुरातत्वविदों ने इसे विश्व इतिहास में बाल बलि की सबसे बड़ी घटना करार दिया है। यहां बच्चों के अवशेष पहले भी मिल चुके हैं। 2011 में इसी जगह पर 42 बच्चों और 70 लामाओं के अवशेष मिले थे।

वहीं, पुरातत्वविदों की एक टीम ने बताया कि जो 140 बच्चों के कंकाल मिले हैं, उनकी उम्र 5 से 14 साल के बीच है। शोध दल के मुताबिक करीब 551 साल पहले बच्चों की बलि दी जाती थी।

Post a Comment

From around the web