भारत में ही इन जगहों पर दबे है ये अनंत खजाने जिनकी खोज में कईयों ने गंवाई है जानें

 
भारत में ही इन जगहों पर दबे है ये अनंत खजाने जिनकी खोज में कईयों ने गंवाई है जानें

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। भारत को कभी सोने की चिड़िया कहा जाता था, क्योंकि उस जमाने के राजाओं की कीर्ति दुनिया भर में चर्चा में रहती थी। उस समय लोगों के लिए अपने शरीर पर 3-4 किलो सोना ले जाना आम बात थी। स्वर्ण मुद्रा का प्रयोग होता था। सोने के रथ बनाए जाते थे और प्राचीन राजा-महाराजाओं को सोने के आभूषणों से लदवाया जाता था। सैकड़ों वर्षों की लूटपाट के बावजूद आज भी भारत में टनों सोना, चाँदी, जवाहरात, गिन्नी आदि दफनाए जा सकते हैं। और लोगों ने सोने के मुकुट पहने। मंदिरों में टन सोना रखा हुआ था। हालाँकि, इस धन ने दुनिया भर के हमलावरों को भी आकर्षित किया। इसीलिए उस जमाने के राजा अपने खजाने की रक्षा के लिए उनसे जुड़ी जानकारियों को गुप्त रखते थे। सैकड़ों वर्षों की लूटपाट के बावजूद आज भी भारत में टनों सोना, चाँदी, जवाहरात, गिन्नी आदि दफनाए जा सकते हैं।

कमरुनाग झील के खजाने
कमरुनाग झील हिमाचल प्रदेश में मंडी से लगभग 60 किमी दूर स्थित है। स्थानीय लोग इस झील को पवित्र मानते हैं और मानते हैं कि झील पाताल में समाप्त होती है। मान्यता है कि सरोवर में आभूषण चढ़ाने से मनोकामना पूरी होती है। दूर-दूर से लोग आते हैं और सरोवर में आभूषण रखकर मन्नत मांगते हैं। कहा जाता है कि यह झील महाभारत काल की है। यहां एक मंदिर है जो लकड़ी से बना है और यहां कमरुनाग की एक पुरानी मूर्ति भी है। सदियों से इस सरोवर में आभूषण और धन आदि चढ़ाने की परंरा है। यह स्पष्ट है कि झाल के तल में खजाना है, लेकिन कितना यह कोई नहीं जानता।

भारत में ही इन जगहों पर दबे है ये अनंत खजाने जिनकी खोज में कईयों ने गंवाई है जानें

पद्मनाभ स्वामी मंदिर का खजाना
माना जाता है कि पद्मनाभ स्वामी मंदिर से अब तक एक लाख करोड़ रुपये का खजाना बरामद किया जा चुका है और इसके तिजोरियों में इससे भी ज्यादा खजाना दबा हुआ है। मिली जानकारी के मुताबिक इस मंदिर का निर्माण 10वीं शताब्दी में हुआ था। कहीं-कहीं यह भी उल्लेख मिलता है कि मंदिर का निर्माण 16वीं शताब्दी में हुआ था। त्रावणकोर के शासकों ने अपना राज्य भगवान को समर्पित कर दिया। मंदिर में मिली भगवान विष्णु की मूर्ति शालिग्राम की है। इस मंदिर पर कभी कोई विदेशी हमला नहीं हुआ। टीपू सुल्तान ने 1790 में ऐसा प्रयास किया लेकिन वह भी सफल नहीं हो सका। 2011 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मंदिर के पांच तहखानों को खोला गया था, जिसमें से एक लाख करोड़ की संपत्ति का पता चला था. लेकिन तहखानों में से एक अभी भी बंद है और माना जाता है कि इसमें कई कीमती सामान हैं।

गोलकोंडा चारमीनार का खजाना
ऐसा माना जाता है कि सुल्तान मुहम्मद कुली कुतुब शाह ने गोलकुंडा किले और चारमीनार के बीच 15 फीट चौड़ी और 30 फीट ऊंची भूमिगत सुरंग बनवाई थी। कहा जाता है कि इस सुरंग में शाही परिवार ने अपना शाही खजाना छुपाया था। कई लोगों का दावा है कि ये खजाने आज भी यहां मौजूद हैं। ऐसा माना जाता है कि हालांकि सुरंत को मुश्किल समय में लोगों की जान बचाने के लिए बनाया गया था, लेकिन बाद में इसका इस्तेमाल खजाने को छिपाने के लिए किया गया। निज़ाम मीर उस्मान अली ने 1936 में एक नक्शा बनाया लेकिन कोई खुदाई नहीं हुई। कई लोग अभी भी मानते हैं कि इस खजाने को खोज कर पाया जा सकता है।

मान सिंह प्रथम का खजाना
मानसिंह अकबर के सेनापति थे। कहा जाता है कि 1580 के आसपास मान सिंह ने अफगानिस्तान पर विजय प्राप्त की थी। वहां से वह मुहम्मद गजनवी का खजाना लेकर भारत आया लेकिन अकबर को इसके बारे में नहीं बताया। उसने इस खजाने को जयगढ़ के किले में गाड़ दिया। माना जाता है कि 1976 में इमरजेंसी के दौरान इंदिरा गांधी भी इस खजाने की तलाश में थीं। कई लोगों का दावा है कि महल की खुदाई कई महीनों में की गई थी। इन दावों के मुताबिक, कई सैन्य ट्रकों के जरिए खजाने को दिल्ली पहुंचाया गया था। इस दौरान दिल्ली जयपुर हाईवे आम जनता के लिए बंद कर दिया गया। एक अन्य कहानी के अनुसार जोधा ने इस खजाने को फतेहपुर सीकरी के मंदिर में रखा था लेकिन समय के साथ मंदिर और खजाना दोनों ही किस्सों में खो गए।

बिहार के राजगीर का खजाना
बिहार के खजाने की भी एक कहानी है। माना जाता है कि बिहार के राजगीर के सोंगगुफा में बेशुमार सोना दबा है। इस स्थान के बारे में सटीक जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन किंवदंती है कि भीम ने यहीं जरासंध का वध किया था। लंबे समय तक यह स्थान मगध साम्राज्य के अधीन रहा। बौद्ध और जैन दोनों ही यहां की गुफाओं को पवित्र मानते हैं। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अनुसार, ये गुफाएँ तीसरी-चौथी शताब्दी की हैं। प्रामाणिक शिलालेखों के अनुसार, रथ के पहिये और शंख भाषा में लिखे कुछ अंश यहाँ मिले थे। ऐसा कहा जाता है कि बिंबिसार ने इस खजाने को गुफाओं की भूलभुलैया में गाड़ दिया था ताकि अजातशत्रु इसे ढूंढ न सके।

Post a Comment

From around the web